भोपाल,27 अप्रैल, भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीलाल गुर्जर ने कहा कि जी एम फसलों पर रोक लगाने के लिए केन्द्र सरकार को नीतिगत फैसला लेकर जी एम फसलों से जेनेटिक प्रदूषण की आंशका को समाप्त करना चाहिए.

उन्होनें जी एम मुक्त कृषि बनाने के लिए आक्रामक अभियान आरंभ किये जाने की केन्द्र सरकार से मांग की है. गुर्जर ने कहा कि जी एम फसलों के बारें में बहुराष्ट्रीय कंपनियां जिन लाभों का वायदा करती है वे पूरे नहीं हुए है. जी एम फसलों से उत्पादकता वृद्धि का वायदा भी पूरा नहीं हुआ है. उन्होनें बताया कि कृषि वैज्ञानिकों ने प्रधानमंत्री को एक ज्ञापन सौंपकर बताया है कि जी एम फसलों से उत्पादकता नहीं बढ़ी है. उल्टी समस्याएं बढ़ी है. विष्व में जलवायु तेजी से बदल रही है. इस बदलते परिवेष में भी जी एम फसलें कृषि के क्षेत्र में समस्याओं को जन्म देंगी. जी एम फसलें देष की परम्परागत खेती को समाप्त कर देगी. परम्परागत बीजों की विरासत समाप्त हो जायेगी और भारतीय कृषि मल्टीनेषनल्स की मोहताज हो जायेगी.

Related Posts: