भोपाल, 16 जुलाई. असम के गोहाटी में 9 जुलाई को कुछ घटा वह किसी भी सभ्य समाज और संवेदनशील मनुष्य को विचलित कर देने वाला है. बर्बर लोगों के एक समूह ने जन्मदिन की पार्टी से लौट रही 11वीं कक्षा की एक छात्रा को जिस तरह से नोंचने, खसोटने की कोशिश की गई वह दिल को दहला देने वाला मंजर था.

इस तरह की घटना को देखकर यह नहीं लगता कि आजादी के 65 साल बाद भी हम लोग एक सभ्य समाज में वास कर रहे हैं. एक गोहाटी की ही घटना नहीं है बल्कि आये दिन अखबार में पढऩे को मिलती है कि लड़की के साथ छेड़छाड़, गैंगरेप, बलात्कार तथा खरीद-फरोख्त की घटनायें बढ़ रही हैं. मौजूदा दौर में मह

Related Posts: