नई दिल्ली. दो महीने पहले जिस सलमान रुश्दी को भारत आने से रोक दिया गया था, वही सलमान रुश्दी जब देश की राजधानी दिल्ली पहुंचे तो उनके भीतर दबा गुबार बाहर आ गया. दिल्ली में एक कार्यक्रम में उन्होंने खुद को जयपुर आने से रोके जाने के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया और राहुल गांधी पर निशाना साधा.

रुश्दी ने कहा कि भारत आज के नेताओं के बजाय अव्वल नेताओं की अगुवाई का हकदार है. जयपुर में मेरी मौजूदगी पर रोक लगाने से कांग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में औंधे मुंह गिरी. रुश्दी ने कहा कि कट्टरपंथियों के आगे बार-बार झुकने का उन्हें कोई फायदा नहीं हुआ. रुश्दी की नजर में आज के दौर में जनता और देश की नुमाइंदगी करने वाले भारत की अगुवाई के हकदार नहीं. रुश्दी ने कहा कि वहां जो कुछ हुआ वह देवबंदी हठ नहीं था. यह मामूली और बेकार का चुनावी गुणा-भाग था जो राहुल गांधी पर काम नहीं कर पाया.

रुश्दी के मुताबिक इससे उत्तर प्रदेश में कांग्रेस औंधे मुंह गिरी. उन्होंने कहा कि भारतीय मतदाता इन नेताओं से कहीं ज्यादा स्मार्ट हैं. रुश्दी एक कार्यक्रम में स्वतंत्रता बनाम ‘मैं जो हूं सो हूं और मैं ऐसा ही हूं विषय पर बोल रहे थे. इस मौके पर उन्होंने कहा कि भारत में नाराजगी की संस्कृति बढ़ती जा रही है. एम.एफ. हुसैन जैसे लोगों के विरोध का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हर रोज ऐसा जान पड़ता है कि मुसलमान और हिंदुओं के संगठनों की ओर से धौंस जमाया जाता है. आवाज दबा दी जाती है. हिंसा का डरावना प्रभाव साफ है और इस देश में यह बढ़ता ही जा रहा है. रुश्दी ने कहा कि देश की जनता सो रही है. उनको जागने की जरूरत है. स्वतंत्रता कोई चाय पार्टी नहीं है. यह एक लड़ाई है. यह पूर्ण नहीं है. यह ऐसी चीज है जो कोई छीनने को तैयार है. अगर आपने रक्षा नहीं की तो आप उसे खो बैठेंगे. मालूम हो कि सलमान रुश्दी बिंदास और बेलाग बातचीत के लिए जाने जाते हैं.

Related Posts: