नई दिल्ली,7 नवंबर. रिकॉर्डो के बेताज बादशाह मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर ने शतकों के महाशतक के लिए अपने प्रशंसकों का इंतजार एक बार फिर बढ़ा दिया है. वेस्टइंडीज के कप्तान डेरेन सैमी ने मैच की पूर्व संध्या पर दावा किया था कि उन्होंने सचिन को महाशतक से रोकने के लिए महाप्लान बना रखा है और इसमें वह कामयाब भी रहे.

हालांकि उन्होंने तेंडुलकर को आउट करने के लिए क्या महाप्लान बना रखा था, इस बात का खुलासा नहीं किया है. सचिन वेस्टइंडीज के खिलाफ यहां फीरोजशाह कोटला मैदान में चल रहे पहले क्रिकेट टेस्ट के दूसरे दिन मात्न सात रन बनाकर आउट हो गए. कोटला में पहला टेस्ट शुरू होने से पहले इस बात को लेकर चर्चाएं बहुत गर्म थीं कि सचिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में महाशतक पूरा कर पाएंगे या नहीं लेकिन 99 का फेर कम से कम पहली पारी में उन पर भारी पड़ गया. मास्टर ब्लास्टर को तेज गेंदबाज फिडेल एडवर्ड्स ने जैसे ही पगबाधा किया, कोटला स्टेडियम में बैठे चंद हजार दर्शकों के मुंह से एक आह निकल गई. सचिन आउट होते ही निराशा के साथ पवेलियन की तरफ चल दिए और स्टेडियम में कुछ देर के लिए सन्नाटा छा गया.  तमाम क्रिकेट जगत में व्याप्त सचिन के महाशत का महाइंतजार पिछले आठ महीने से खिंचता ही जा रहा है.  सचिन के बल्ला थामते ही मानो रिकॉर्ड उनका पीछा करने लगते हैं उनके एक 100वां अंतरराष्ट्रीय शतक पूरा करने का इंतजार खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है. सचिन ने अपने वनडे करियर में अब तक 48 और टेस्ट मैचों में 51 शतक लगाए हैं. उन्होंने विश्व कप के दौरान दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ इस वर्ष 11 मार्च को नागपुर में 111 रन की शानदार पारी खेलकर अपने करियर का 99वें शतक लगाया था.

क्रिकेट प्रेमियों को उम्मीद थी कि सचिन अपना 100वां शतक बनाने का इतिहास भी विश्वकप के दौरान ही रच देंगे लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. सचिन वेस्टइंडीज दौरे में नहीं खेले जिससे क्रिकेटप्रेमियों का इंतजार और लंबा हो गया. इसके बाद सबकी नजरें इंग्लैंड दौरे पर टिक गई। प्रशंसकों को उम्मीद थी कि लार्डस के ऐतिहासिक मैदान पर वह क्रिकेट के इतिहास पुरुष को एक और इतिहास रचते देखेंगे लेकिन सचिन इंग्लैंड के खिलाफ वहां खेले गए पहले टेस्ट की पहली और दूसरी पारी में मात्न 34 और 12 रन बनाकर आउट हो गए. मास्टर ब्लास्टर नाङ्क्षटघम में दूसरे टेस्ट में 16 और 56 रन और बॄमघम में तीसरे टेस्ट में एक और 40 रन ही बना पाए. ओवल में आखिरी टेस्ट में भी सचिन पहली पारी में 23 रन बनाकर आउट हो गए हालांकि दूसरी पारी में वह अपने 100 शतक पूरे करने से मात्न नौ रन पीछे रह गए. सचिन ने 18 अगस्त से शुरू हुए इस टेस्ट में 91 रन बनाए थे। इसके बाद सचिन के पास अपनी जमीन पर शतकों का महाशतक पूरा करने मौका मिला लेकिन वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट की पहली पारी में वह सात रन ही बना सके. हालांकि सचिन हमेशा कहते रहे हैं कि वह किसी भी मैच में रिकॉर्ड बनाने के लिए नहीं बल्कि अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने उतरते हैं जिसके बाद रिकॉर्ड तो खुद ब खुद बन जाते हैं.

Related Posts: