नई दिल्ली,4 नवंबर.  अनुभवी बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर और भारतीय क्रिकेट टीम वेस्टइंडीज के खिलाफ यहां फिरोजशाह कोटला मैदान पर रविवार से शुरू हो रहे पहले टेस्ट के दौरान इस मैदान पर अपनी बादशाहत कायम करना चाहेंगे.

सचिन के सामने जहां लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर और पूर्व कप्तान दिलीप वेंगसरकर को पछाड़कर इस मैदान पर सर्वाधिक रन बनाने और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में अपने चिरप्रतीक्षित महाशतक को पूरा करने का मौका है वहीं भारतीय टीम के सामने कोटला में वेस्टइंडीज पर पहली जीत हासिल करने का अवसर रहेगा. कोटला में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड वेंगसरकर के नाम है जिन्होंने यहां आठ मैचों में 12 पारियों से 671 रन बनाए हैं. गावस्कर उनसे मात्र तीन रन पीछे हैं और उन्होंने नौ मैचों में 14 पारियों से 668 रन बनाए हैं. सचिन अपने आठ मैचों की 15 पारियों से 643 रन बनाकर इस सूची में तीसरे नंबर पर हैं.

इस मैदान पर सर्वाधिक रन बनाने वाले मौजूदा भारतीय बल्लेबाजों में सचिन के बाद श्रीमान भरोसेमंद राहुल द्रविड़ (550) और संकटमोचन वीवीएस लक्ष्मण (478) हैं. दिल्ली के लाडले गौतम गंभीर ने यहां दो टेस्ट में 247 रन बनाये हैं जबकि शहर के एक अन्य बल्लेबाज वीरेन्द्र सेहवाग इस मैदान पर अब तक टेस्ट में अपना जौहर नहीं दिखा सके हैं. वीरू यहां की तीन पारियों में क्रमश: 74, 01 और 16 रन ही बना सके हैं. विराट कोहली इस मैदान पर कोई टेस्ट नहीं खेल पाये हैं. बल्लेबाजों का रिकॉर्ड जितना ही अच्छा है, टीम का वेस्टइंडीज के खिलाफ रिकॉर्ड उतना ही निराशाजनक है. दोनों देशों के बीच इस मैदान पर अब तक छह मैच खेले गये हैं जिनमें भारत को एक अदद जीत नसीब नहीं हुई है. वेस्टइंडीज ने दो जीते हैं जबकि चार मैच ड्रॉ रहे हैं. वेस्टइंडीज को यहां पहली जीत 1974 में मिली थी. तब कैरेबियाई टीम ने एक पारी और 17 रन से विशाल जीत हासिल की थी. वहीं दूसरी बार कैरेबियाई टीम ने 1987 में मेजबानों को पांच विकेट से शिकस्त दी.

इतना ही नहीं, कोटला के दो सबसे बड़े टीम स्कोर भी कैरेबियाई टीम के ही नाम हैं. इस मैदान का सबसे बड़ा स्कोर वेस्टइंडीज ने छह फरवरी 1959 को बनाया जब उसने भारत के खिलाफ 214 ओवर में आठ विकेट पर 644 रन बनाकर पारी घोषित की. 10 नवम्बर 1948 को कैरेबियाई टीम ने यहां भारत के खिलाफ 183.4 ओवर में 631 रन बनाये थे जो इस मैदान का दूसरा सबसे बडा स्कोर है. कोटला में भारत का सर्वाधिक स्कोर सात विकेट पर 613 रन रहा है. मेजबान टीम ने 29 अक्टूबर 2008 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपनी पारी इस पहाड़ से स्कोर पर घोषित कर दी थी. वेस्ट इंडीज के खिलाफ भारतीय टीम का इस मैदान पर सबसे बड़ा स्कोर 566 रन का रहा है. भारत ने 24 जनवरी 1979 को वेस्टइंडीज के खिलाफ आठ विकेट पर 566 रन बनाकर पारी घोषित की थी.

Related Posts: