• वीरू का यू टर्न

नई दिल्ली, 8 जुलाई. विस्फोटक ओपनर वीरेन्द्र सहवाग ने नियमित कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी की काबिलियत और विश्व कप में उनके योगदान पर सवाल उठाने के चंद घंटों बाद ही यू टर्न ले लिया और सारा ठीकरा मीडिया के सिर फोड़ते हुए कहा कि उनके बयान को सनसनी बनाने के लिए मीडिया ने तोड़मरोड़ कर पेश किया है.

सहवाग ने भारतीय क्रिकेट में पिछले कुछ समय से जारी कप्तानी के विवाद को हवा देते हुए कहा था कि अच्छी टीम ही एक अच्छा कप्तान बनाती है.धोनी के पास एक मजबूत टीम थी. ऐसी स्थिति में प्रदर्शन करना आसान हो जाता है जैसे कि एक समय आस्ट्रेलिया की भी यही स्थिति थी. नजफगढ़ के नवाब ने कहा था. हमने विश्वकप जीता क्योंकि हमारे पास एक मजबूत टीम थी. इसकी वजह से ही हम 2007 में टवंटी-20 विश्वकप भी जीत पाये थे. वीरू के इस बयान के बाद क्रिकेट प्रेमियों में बहस छिड़ गयी थी जिसे देखते हुए उन्होंने टवीट्ï किया.

यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि मेरे बयान को सनसनी बनाने के लिए तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया. मैं तो बस इतना कहना चाहता था कि हमारे पास एक मजबूत टीम है इसलिए हमने धोनी के नेतृत्व में दो विश्वकप जीते.वीरु ने कहा. धोनी अच्छे कप्तान हैं और वह अब तक के सफलतम भारतीय कप्तानों में से एक हैं. मेरे बयान को तोड़मरोड़ कर उसमें से कुछ और मतलब निकालना बेहद गैर जिम्मेदाराना हरकत है. गौरतलब है कि वीरू का विवादास्पद बयान कप्तानी को लेकर माही और वीरू में जारी विवाद की एक कड़ी है. उनके बीच जारी इस विवाद का खामियाजा भारत को आस्ट्रेलियाई दौरे पर उठाना पडा था. आस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत ने न केवल चार टेस्टों की सीरीज 0-4 से हार गया था बल्कि वह त्रिकोणीय सीरीज के फाइनल में भी नहीं पहुंच पाया था. वीरू ने टेस्ट क्रिकेट के भविष्य पर कहा टेस्ट क्रिकेट का भविष्य खतरे में नहीं है. अभी कई युवा टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहते हैं. आपने कितने ऐसे क्रिकेटरों के बारे में सुना है जिन्होंने वनडे में खेलने के लिए टेस्ट क्रिकेट छोडा हो, अधिकतर क्रिकेटर अपने टेस्ट करियर को लेबा खींचंने के लिए वनडे से संन्यास ले लेते हैं.

Related Posts: