इस्लामाबाद, 10 अप्रैल. अमेरिका के एक राजनयिक से मुलाकात के दौरान राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के खिलाफ विरोधाभासी बयान देने वाली पाकिस्तानी विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार के बारे में अटकलें हैं कि उनका विभाग बदला जा सकता है.

प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी की ओर से दिए गए एक बयान से हिना रब्बानी को विदेश मंत्री पद से हटाने की अटकल शुरू हुई. गिलानी ने संवाददाताओं से बातचीत में यह कहकर सबको चौंका दिया कि भारत के साथ कश्मीर जैसे मुद्दे को हल करने के लिए नई टीम बातचीत करेगी. वहां मौजूद पत्रकारों ने भी प्रधानमंत्री के बयान का ज्यादा मतलब नहीं निकाला और खुद गिलानी ने भी नहीं स्पष्ट किया कि उनके नई टीम कहने का क्या मतलब है. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि अमेरिका के उप सहायक विदेश मंत्री थामस नाइड्स उस वक्त हैरान रह गए जब बीते चार अप्रैल को मुलाकात के दौरान खार ने सार्वजनिक तौर पर राष्ट्रपति की टिप्पणी पर विरोधाभासी बयान दिया. शिकागो में अफगानिस्तान पर मई में होने वाले सम्मेलन में पाकिस्तान के शामिल होने के मुद्दे पर जरदारी ने कहा था कि अगर अमेरिका औपचारिक निमंत्रण देता है तो उनका देश इस पर चर्चा करने को तैयार है.

दूसरी ओर, हिना रब्बानी ने कहा कि इस मामले पर संसद के संयुक्त सत्र के पूरा होने तक बात नहीं हो सकती. गिलानी के बयान के बाद से स्थानीय मीडिया में अटकलें शुरू हो गईं कि हिना रब्बानी का विभाग बदला जा सकता है. कहा जा रहा है कि हिना रब्बानी को नया विभाग सौंपा जा सकता है.

Related Posts: