मुकुल के लिए निर्णय लें प्रधानंत्री : ममता

नई दिल्ली/कोलकाता. 17 मार्च. रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी को हटाए जाने पर दृढ़ तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने शनिवार को कहा कि त्रिवेदी को हटाकर उनकी पार्टी के नामित मुकुल रॉय को नियुक्त करने संबंधी उनके अनुरोध पर अब प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को कदम उठाना है.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि दिनेश त्रिवेदी हमारे रेल मंत्री नहीं हैं. त्रिवेदी के बारे में यूपीए सरकार ही फैसला करेगी. ममता ने कहा कि मुकुल रॉय ही अगले रेल मंत्री होंगे और वह त्रिवेदी के बारे में बात नहीं करना चाहती हैं.

‘त्रिवेदी को लिखित में कुछ नहीं मिलेगा’
तृणमूल कांग्रेस ने रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी की उस मांग को शनिवार को खारिज कर दिया जिसमें कहा गया था कि पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी उनसे पद छोडऩे को लिखित में कहें.सुदीप बंदोपाध्याय ने संवाददाताओं से कहा, ‘कुछ भी लिखित में नहीं दिया जाएगा.’ बंदोपाध्याय ने ये बातें मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ राज्य सचिवालय से निकलने के दौरान कहीं.

लिखित आदेश पर दूंगा इस्तीफा

रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि  पद से इस्तीफा पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी के लिखित निर्देश पर ही देंगे. त्रिवेदी ने कहा कि मैं पार्टी के निर्णय से बाध्य हूं. यदि मैं पद पर बने रहना चाहूं, तो बना रह सकता हूं. मैं इस तरह अपमानित नहीं होना चाहता. मैंने अपना काम किया है. वे मुझे उचित तरीके से कहें. मैं एक-दो दिन में इस्तीफा दे दूंगा. ज्ञात हो कि त्रिवेदी के पहले रेल बजट में बुधवार को 10 वर्षो बाद हर श्रेणी के रेल किराए में वृद्धि का प्रस्ताव किया गया. इस किराया वृद्धि से नाराज पार्टी प्रमुख बनर्जी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से बुधवार रात आग्रह किया कि वह त्रिवेदी को रेल मंत्री पद से हटाकर उनकी पार्टी के दूसरे नेता, मुकुल राय को रेल मंत्री बना दें.

कल्याण बनर्जी के अनुसार, जब त्रिवेदी ने पार्टी प्रमुख के लिखित निर्देश पर जोर दिया, तो उन्होंने कहा कि बैरकपुर के सांसद त्रिवेदी ने मंत्री पद की शपथ लेने से पहले ममता बनर्जी से लिखित निर्देश नहीं मांगा था. कल्याण बनर्जी ने कहा कि त्रिवेदी ने उनसे कहा कि वह चाहते हैं कि उन्हें पार्टी के निर्णय के बारे में ममता द्वारा लिखित रूप में अवगत कराया जाए. लोकसभा में तृणमूल के मुख्य सचेतक कल्याण बनर्जी ने उसके बाद त्रिवेदी से कहा कि पार्टी के लिखित निर्देश की जिद करना अच्छी बात नहीं है. उन्होंने कहा कि जब वह मंत्री बने थे तब उन्होंने पार्टी नेता ममता बनर्जी से लिखित निर्देश पर जोर नहीं दिया था. तृणमूल सूत्रों ने कहा है कि बनर्जी ने त्रिवेदी से कहा कि चूंकि पार्टी उन्हें मंत्री के रूप में नहीं देखना चाहती, लिहाजा उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए. बनर्जी ने त्रिवेदी से कहा कि चूंकि पार्टी चाहती थी कि आप मंत्री पद की शपथ लें, इसलिए आपने ऐसा किया. आज पार्टी नहीं चाहती कि आप मंत्री पद पर बने रहे. लिहाजा आपको इस्तीफा दे देना चाहिए.

ममता ने फिर दिखाए तेवर

कोलकाता. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर कांग्रेस को अपने तेवर दिखाए हैं. रेल बजट को लेकर तृणमूल कांग्रेस और कांग्रेस के रिश्तों में आई तल्खी के बीच ममता बनर्जी ने अब राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस को समर्थन न देने का फैसला किया है. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी शकील अहमद ने इस सिलसिले में पिछले दिनों कोलकाता आकर तृणमूल नेताओं से समर्थन की मांग की थी.

त्रिवेदी का फैसला कल!

नई दिल्ली, नससे. तृणमूल कांग्रेस ने रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी से इस्तीफा मांग लिया है, लेकिन त्रिवेदी ने कहा कि ममता बनर्जी उनसे लिखित में ऐसा कहें. वहीं कांग्रेसी नेताओं की मानें तो सोमवार को उनके भाग्य का फैसला हो जाएगा. तृणमूल नेता कल्याण बनर्जी ने फोन पर इस्तीफा मांगा है.  बनर्जी ने त्रिवेदी से टेलीफोन पर बात की और  उन्हें पद से बर्खास्त किए जाने की प्रतीक्षा किए जाने के बदले गरिमामय तरीके से हट जाने को कहा.

Related Posts: