भोपाल,13 फरवरी,नभासं. सरकारी कॉलेजों में अतिथि शिक्षक के तौर पर पढ़ा रहे करीब ढाई हजार शिक्षकों, लाइब्रेरियन और पीटीआई के मानदेय में डेढ़ गुना इजाफा किया गया है. सोमवार को राज्य मंत्रिपरिषद ने इसकी मंजूरी दे दी. प्राचार्य अब इन अतिथि शिक्षकों को पढ़ाने के लिए एक दिन में चार के बजाय पांच पीरियड भी दे सकेंगे.

गौरतलब है कि सरकार करीब दो दशक से उच्च शिक्षा में खाली पड़े शिक्षकों के पद भरने के बजाय अतिथि विद्वानों से अध्यापन करा रही है. कैबिनेट की बैठक के बाद संसदीय कार्य मंत्री एवं राज्य सरकार के प्रवक्ता नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि जिन्हें सौ रुपए मानदेय मिल रहा था उन्हें अब 155 रुपए, जिन्हें 300 रुपए मिल रहे थे उन्हें 455, जिन्हें 200 रुपए मिल रहे थे उन्हें 303, जिन्हें 150 रुपए मिल रहे थे उन्हें 227 रुपए मानदेय मिलेगा. उधर,नेपा मिल फिर चालू होने का रास्ता साफ हो गया है. बुरहानपुर जिले की नेपा पेपर मिल को विशेष रियायत देकर फिर से शुरू करने की योजना को मंजूरी दी . इसके तहत 66.92 करोड़ रुपए अंशपूंजी परिवर्तित करना, 32 करोड़ रुपए की पंूजी और 33 करोड़ रुपए ब्याज माफी और 22 करोड़ रुपए वन भूमि को पूँजी में परिवर्तित करना शामिल है. गौरतलब है कि स्कूल शिक्षा मंत्री अर्चना चिटनिस इस मिल को पुनर्जीवित करने के लिए एक अर्से से प्रयासरत थीं.

प्रमुख फैसले एक नजर में

सभी विकासखंडों में लोक सेवा केंद्र खुलेंगे, आदिवासियों के वन भूमि में आवास के पट्टों के लिए वैधता 1980 के बजाय 31 दिसंबर 2011 तक के निवास को मान्यता दी जाएगी, तीर्थ एवं मेला प्राधिकरण बनेगा, निगम मंडल में प्रतिनियुक्ति कर्मचारियों को भी चौथा और पांचवां वेतनमान मिलेगा, धार नागदा 22.5 किमी, बालाघाट बैहर 66.70 किमी और जबलपुर पाटन शहपुरा 38.8 किमी मार्ग बैकवर्ड रीज ग्रांट फंड से टोल पद्धति से बनेंगे, आवास एवं पर्यावरण विभाग में तीन चरण में 31 पद भरे जाएंगे, सेवानिवृत्तों की संविदा नियुक्ति में वृद्धि के प्रस्ताव अब छानबीन समिति में नहीं जाएंगे. सौंधिया जाति को ओबीसी में शामिल करने की नहीं मिली मंजूरी.

Related Posts: