जि़दगी जीने की तमन्ना आंखों में बसाए इस मजबूर लड़की का नाम है ओंट्लामेट्से फलास्टे. इसे नहीं मालूम कि यह और कितने साल जीवित रह पाएगी क्योंकि इसे ख़तरनाक बीमारी सिंड्रोम हचिंन्सन गिलफोर्ड है.

12 साल की यह लड़की दुनिया की एकमात्र महिला है, जो कि इस घातक और दुर्लभ रोग से पीडि़त है. इस बीमारी में इंसान उम्र से पहले ही बूढ़ा होने लगता है और उसमें तेजी से शीरीरिक परिवर्तन होने लगते हैं.  अगर आंकड़ों और इतिहास को देखा जाए तो पूरी दुनिया में मात्र दो ही बच्चे इस बीमारी से पीडि़त थे, जिनकी काफी कम उम्र में मौत हो गई थी. इनमें से एक बच्चा अमेरिका और दूसरा नीदरलैंड का निवासी था.  विशेषज्ञ मानते हैं कि इस समय विश्व में 200 से 250 बच्चे इस ख़तरनाक बीमारी की चपेट में हैं. इस बीमारी के प्रभाव में आते ही बच्चों की 8 से 21 वर्ष की उम्र में ही हृदयघात, अधिक ब्लड प्रेशर और एंजीना की वजह से मौत हो जाती है.

Related Posts: