लखनऊ, 28 मई. उत्तर प्रदेश विधानसभा में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के विधायकों ने राज्य में बिगड़ती कानून-व्यवस्था को लेकर जमकर हंगामा किया। हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दिया गया।

विधानसभा का सत्र सोमवार को ही शुरू हुआ। विधानसभा की कार्यवाही तय समय के अनुसार 11 बजे शुरू हुई। राज्यपाल बी. एल. जोशी ने जैसे ही अपना अभिभाषण पढऩा शु़रू किया, बसपा विधायकों ने हंगामा शुरू कर दिया। हंगामे की वजह से राज्यपाल अपना अभिभाषण पूरा नहीं कर पाए। बसपा विधायकों ने प्रदेश अध्यक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य के नेतृत्व में हंगामा शुरू कर दिया। बसपा के करीब दो दर्जन विधायकों ने सदन के भीतर झंडे और बैनर लहराए। बसपा विधायकों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। हंगामे को देखते हुए विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय ने सदन की कार्यवाही 12.30 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि सरकार ने गुंडों के सामने घुटने टेक दिए हैं। उन्होंने कहा कि किसानों के हितों और बिगड़ती कानून-व्यवस्था को लेकर राज्य सरकार जब तक कोई ठोस कदम नहीं उठाती, तब तक वे सदन को नहीं चलने देंगे। उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा की बैठक 28 मई से 29 जून तक चलनी हैं। दोनों सदनों के संयुक्त अधिवेशन में राज्यपाल के पहुंचने के साथ ही मुख्य विपक्षी दल बसपा के सदस्य सिर पर सरकार विरोधी नारे लिखी टोपी लगाकर सदन के बीचोंबीच आ गए और राज्यपाल वापस जाओ का नारा लगाते हुए उन्होंने सत्र के पहले ही दिन सपा सरकार की बर्खास्तगी की मांग कर डाली। हत्या, लूट, दुष्कर्म, बर्खास्त करो सपा सरकार, बना स्थानांतरण अब व्यापार के नारे लगा रहे बसपा सदस्यों ने सरकार विरोधी नारे लिखे बैनर और पोस्टर लहराए।

उन्होंने राज्यपाल की ओर कागज के गोले बनाकर भी उछाले। हंगामे के बीच राज्यपाल अपने अभिभाषण का पहला और आखिरी पैराग्राफ पढ़कर सदन से चले गए जिसके बाद सदन की कार्यवाही अपरह्न साढ़े 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। भाजपा और कांग्रेस के सदस्य भी अपने-अपने स्थानों पर खड़े थे। कांग्रेस सदस्य हाथों में कानून व्यवस्था ध्वस्त है, सरकार की आंख बंद है का नारा लिखे पोस्टर लिए थे।

उधर, स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि सरकार ने गुंडों के सामने घुटने टेक दिए हैं। उन्होंने कहा कि किसानों के हितों और बिगड़ती कानून-व्यवस्था को लेकर राज्य सरकार जब तक कोई ठोस कदम नहीं उठाती, तब तक वे सदन को नहीं चलने देंगे। उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा की बैठक 28 मई से 29 जून तक चलनी है।

Related Posts: