भारत ने वेस्ट इंडीज को 5 विकेट से हरा कर सीरीज में बनाई 2-0 की बढ़त

विशाखापट्टनम 2 दिसंबर. युवा बल्लेबाज विराट कोहली की शानदार शतकीय पारी और रोहित शर्मा के नाबाद 90 रनों की बदौलत भारत ने वेस्टइंडीज को 5 विकेट से मात दी.

शुक्रवार को वाईएस राजशेखर रेड्डी एसीए-वीडीसीए क्रिकेट मैदान पर खेले गए दूसरे डे नाइट मैच में भारत ने महज 48.1 ओवर में 5 विकेट गंवाकर वेस्टइंडीज की ओर से रखे गए 270 रनों के लक्ष्य को पार कर लिया. पांच मैचों की इस श्रृंखला में भारतीय टीम ने 2-0 से बढ़त बना ली है. उसने कटक में मंगलवार को खेले गए पहले मुकाबले में एक विकेट से जीत हासिल की थी. आज खेले गए दूसरे मुकाबले में शीर्ष क्रम के लडख़ड़ाने के बाद ओपनर लिंडल सिमंस के 78 रन के बाद पुछल्ले बल्लेबाज रवि रामपाल ने नाबाद 86 रन की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की दौलत वेस्टइंडीज दूसरे वनडे मैच में भारत के सामने 270 रनों का विशाल लक्ष्य रखने में सफल रहा. मेहमान टीम का स्कोर एक समय 36 ओवर में नौ विकेट पर 170 रन था.

हल्की बूंदाबांदी के चलते देरी से शुरू हुए मुकाबले में भारतीय तेज गेंदबाजों उमेश यादव के 3/31 विकेट और विनय कुमार के 2/43 विकेट ने शुरुआत में जोरदार झटके दिए. लेकिन सिमंस के करियर के 10वें अर्धशतक के बाद रामपाल की आतिशी बल्लेबाजी से वेस्टइंडीज 50 ओवर में नौ विकेट पर 269 रन बनाने में सफल रहा. रामपाल ने करियर का पहला पचासा मात्र 35 गेंदों में जड़ दिया. उन्होंने अपनी 66 गेंदों की नाबाद पारी में छह चौका व छह छक्का जमाया. जबकि सिमंस ने 102 गेंदों में आठ चौका व एक छक्के की मदद से 78 रनों की पारी खेली. रवि और केमोर रोच नाबाद 24 रन ने 10वें विकेट के लिए 14 ओवर में 99 रनों की अविजित साझेदारी की. टेस्ट सीरीज में 22 विकेट लेकर मैन आफ द सीरीज बने आर अश्विन बल्लेबाजों के निशाने पर रहे जिन्होंने 10 ओवर में 74 रन खर्च किए लेकिन एक विकेट हासिल किया. भारत पांच मैचों की सीरीज का पहला वनडे जीतकर 1-0 की बढ़त बना चुका है.

इससे पूर्व लगातार दूसरी बार टास गंवाने के बाद पहले बल्लेबाजी का न्योता मिलने पर बल्लेबाजी करने उतरी कैरेबियाई टीम की शुरुआत बहुत ही खराब रही. तेज गेंदबाजों ने विंडीज को लय में आने का मौका ही नहीं दिया. दूसरे ओवर की आखिरी गेंद पर एंड्रियन बराथ खाता खोले बगैर ही यादव की गेंद पर विकेट के पीछे पार्थिव पटेल के हाथों लपके गए. शुरुआती झटके के बाद सिमंस का साथ देने उतरे मार्लोन सैमुअल्स [4] ने आराम से खेलना शुरू किया लेकिन यादव ने आठवें ओवर की पहली गेंद पर उन्हें भी कैच आउट कराकर चलता किया. सैमुअल्स को सुरेश रैना ने कैच किया. टेस्ट सीरीज में खासे सफल रहे डेरेन ब्रावो आज कुछ खास नहीं कर सके और 17 गेंदों में 13 रन बनाने के बाद विनय कुमार की गेंद पर 14वें ओवर में अश्विन को कैच थमाकर चलते बने.

विनय ने इसी ओवर में डेंजा हयात को विकेट के पीछे कैच कराकर विंडीज टीम को दोहरा झटका दिया. यादव ने झटकों से उबरने की कोशिश कर रही विपक्षी टीम को एक और झटका दे दिया. उन्होंने विकेटकीपर-बल्लेबाज दिनेश रामदीन को दो रन बनाने के बाद कैच आउट कराया. 16.1 ओवर में मात्र 63 रनों के स्कोर पर पांच विकेट गंवाने से वेस्टइंडीज पर गहरा संकट मंडराने लगा था. लेकिन सिमंस और कीरोन पोलार्ड ने 35 रन, 30 गेंद, 3 चौका व 2 छक्के की मदद ने विकेटों के पतन को रोकते हुए टीम का स्कोर सौ के पार पहुंचाया. दोनों ने छठवें विकेट के लिए 56 रनों की साझेदारी की. जारी दौरे में अब तक कुछ खास कर पाने में नाकाम रहे पोलार्ड ने आज कुछ अच्छे शाट लगाए. हालांकि पोलार्ड अश्विन की गेंद पर 24वें ओवर लगातार दो छक्का जमाने के बाद अगली गेंद पर कैच आउट हो गए. इस बीच सिमंस ने 63 गेंदों में भारत के खिलाफ तीसरा और इस साल का अपना आठवां अर्धशतक जमाया. पोलार्ड के आउट होने के बाद सिमंस ने अपना छोर संभाले रखा. इसके बाद कप्तान डेरेन सैमी भी दो रन बनाने के बाद रविंदर जडेजा की गेंद पर एलबीडब्ल्यू हो गए. शीर्ष और मध्य क्रम के असफल रहने के बाद पुछल्ले बल्लेबाजों ने सिमंस का बढिय़ा साथ दिया जिससे टीम दो सौ के पार पहुंच पाई. सिमंस के रूप में टीम का नौंवा विकेट गिरा. वह दो रन लेने के चक्कर में रन आउट हुए. रामपाल ने अंतिम समय में गजब की बल्लेबाजी की और रोच के साथ 10वें विकेट के लिए 99 रनों की अर्धशतकीय साझेदारी कर टीम को सम्मानजनक स्तर तक पहुंचाया.

जब वीरू को हुआ गलती का अहसास, तो हंसने लगे

वेस्टइंडीज के खिलाप वाईएस राजशेखर रेड्डी एसीए-वीडीसीए क्रिकेट मैदान पर जारी दूसरे एकदिवसीय मुकाबले में भारतीय टीम के कार्यवाहक कप्तान वीरेंद्र सेहवाग की एक गलती से टीम को खामियाजा भुगतना पड़ा. दरअसल, मैच के दौरान भारतीय टीम ने गेंदबाजी पावर प्ले लिया. नियम के अनुसार पावर प्ले के दौरान सर्किल के बाहर सिर्फ तीन ही खिलाड़ी रह सकते हैं, लेकिन विनय कुमार के उस ओवर में सर्किल के भीतर सिर्फ पांच खिलाड़ी ही मौजूद थे. अंपायर ने तुरंत विनय की उस गेंद को नो बॉल करार दिया. नो बॉल दिए जाने के बाद वीरेंद्र सेहवाग को अपनी गलती का अहसास हुआ और वे हंसने लगे.

Related Posts: