नयी दिल्ली, 31 मई. लंदन ओलंपिक में अपने खेलने के लिए भाग्य के सहारे उम्मीदें लगाये भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने आज कहा कि वह खेलों के इस महाकुंभ में वाइल्ड कार्ड पाने की हकदार हैं.

इस वर्ष चार डब्ल्यूटीए मुकाबलों के फाइनल में पहुंची और दो खिताब जीत चुकी सानिया ने कहा मैं आशावादी हूं. मुझे लगता है कि मैंने काफी अच्छा प्रदर्शन किया है और ओलंपिके के लिए वाइल्ड कार्ड की हकदार हूं. जहां तक मुझे मालूम है. वाइल्ड कार्ड उन देशों के सबसे योग्य दावेदार को मिलता है जिन्हें ओलंपिक में प्रतिनिधित्व नहीं मिला हो. ऐसे में मेरा दावा मजबूत होता है. फ्रेंच ओपन में शुरुआती दौर में ही हार झेलने के सवाल पर सानिया ने कहा मुझे लगता है कि इन चीजों के प्रति खिलाडिय़ों का नजरिया अलग होता है. हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश करते हैं और जीतने की कोशिश करते हैं. मेरी तीसरी सर्जरी के बाद से पांच माह शानदार रहे हैं.

मैं अब भी विश्व में 10 सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग के आस पास हूं. सानिया को फ्रेंच ओपन में अपने .400 अंकों का बचाव करना था ताकि वह 11 जून को ओलंपिक क्वालीफिकेशन लिस्ट जारी होने के समय डब्ल्यूटीए की टाप10 रैंकिंग में रह पाती लेकिन उनके और उनकी अमेरिकी जोड़ीदार बिथानी माटेक सेंड्स को इस टूर्नामेंट के महिला युगल के पहले ही दौर में हारकर बाहर हो जाने से उनकी लंदन ओलंपिक में खेल पाने की उम्मीदों को गहरा झटका लगा है.

सानिया ने कहा कि फ्रेंच ओपन में उनकी जोडीदार बिथानी के चोटिल होने के कारण भी उन्हें जल्द हार झेलने पर मजबूर होना पड़ा. उन्होंने कहा विपक्षी जोड़ी ने तो अच्छा खेल दिखाया ही लेकिन बिथानी की चोट का भी हार में बड़ा योगदान रहा है. एकल के दौरान उनके पैर का अंगूठा बुरी तरह चोटिल हो गया था और पूरे युगल के दौरान दर्द से परेशान रही. उन्होंने साथ ही कहा बिथानी ने हालांकि पूरे दिल से खेल दिखाया लेकिन टेनिस में यह सब होता रहता है. हर खिलाड़ी को जीत और हार का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए. जब सेरेना विलियम्स मैच जीतने से केवल दो अंक दूर थी. तब किसने सोचा होगा कि वह टूर्नामेंट से ही बाहर हो जाएंगी. ओलंपिक टेनिस में भारत के पास पदक उम्मीद केवल पुरुष युगल और मिश्रित युगल में है. सानिया भूपति से मिश्रित युगल में काफी उम्मीदें लगायी जा रही हैं लेकिन यदि भारत वाइल्ड कार्ड हासिल कर लेता है तो तभी जाकर सानिया लंदन ओलंपिक में एकल और मिश्रित युगल स्पर्धाओं में खेल पाएंगी क्योंकि मिश्रित युगल खेलने के लिए खिलाड़ी को किसी अन्य युगल या एकल मुकाबले में खेलना अनिवार्य है.

Related Posts: