इंदौर, 4 दिसंबर. खुदरा क्षेत्र में एफडीआई सीमा बढ़ाए जाने के फैसले को लेकर संकट से घिरी सरकार का बचाव करते हुए कांग्रेस दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी इस मुद्दे पर दोमुंही राजनीति करते हुए सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है.

दिग्विजय ने यहां हवाईअड्डे पर संवाददाताओं से कहा कि प्रत्यक्ष विदेशी निवेश [एफडीआई] के मुद्दे पर भाजपा सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है, क्योंकि वह वर्ष 2004 और 2009 के आम चुनावों में अपनी हार अब तक भुला नहीं सकी है.कांग्रेस महासचिव ने कहा कि खुदरा क्षेत्र में एफडीआई की सीमा बढ़ाने का फैसला देश के किसानों और उपभोक्ताओं के च्हितज् में है. इसके साथ ही, यह प्रचार भी गलत है कि इस फैसले से घरेलू कारोबारियों को नुकसान होगा. उन्होंने सवाल किया कि दिल्ली और इंदौर में शॉपिंग मॉल खुलने से भला कौन सा कारोबारी बेरोजगार हुआ और कौन सी दुकान बंद हुई. दिग्विजय ने कहा कि भाजपा इस मुद्दे पर केवल राजनीति कर रही है, जबकि वर्ष 2004 के अपने चुनावी घोषणा पत्र में वह खुद एफडीआई की बात कर चुकी है. इसके साथ ही, उसके वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह एफडीआई की सीमा बढ़ाने की वकालत करने वाला बयान दे चुके हैं. वॉलमार्ट स्टोरों को आग के हवाले करने की विवादास्पद चेतावनी देने वाली वरिष्ठ भाजपा नेता उमा भारती पर कटाक्ष करते हुए दिग्विजय ने कहा कि वॉलमार्ट और भारती इंटरप्राइजेज के संयुक्त उपक्रम वाली थोक दुकानें भोपाल और इंदौर में भी चल रही हैं, लेकिन इन दुकानों को लेकर उमा खामोश हैं.

मध्य प्रदेश के लोकायुक्त पीपी नावलेकर की नियुक्ति के मसले पर कांग्रेस महासचिव ने कहा कि कांग्रेस को लोकायुक्त संस्था से कोई शिकायत नहीं है. मगर इस बात को लेकर आपत्ति जरूर है कि जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ लोकायुक्त जांच चल रही थी तो उन्हें लोकायुक्त की नियुक्ति प्रक्रिया से अलग क्यों नहीं रखा गया. एक सवाल पर मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि पार्टी इस बात का जल्द खुलासा करेगी कि प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा के नेताओं ने अपने किन रिश्तेदारों को खदानें बांटी हैं. लोकपाल विधेयक के मसले पर अन्ना की फिर अनशन की चेतावनी पर दिग्विजय ने अपनी संक्षिप्त प्रतिक्रिया में कहा कि यह उनका अधिकार है.

Related Posts: