नई दिल्ली, 18 मार्च. उत्तराखण्ड में कांग्रेस का विवाद सुलझ गया है. मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने यह दावा किया है.

उत्तराखण्ड में जारी विवाद को लेकर रविवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर बैठक हुई. बैठक में विजय बहुगुणा और उत्तराखण्ड के प्रभारी गुलाम नबी आजाद मौजूद थे. बैठक के बाद बहुगुणा ने कहा कि सभी मतभेद सुलझा लिए गए हैं. जिन विधायकों ने शपथ नहीं ली है वे जल्द ही शपथ ले लेंगे. इस बीच मुख्यमंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज हरीश रावत ने कहा कि वह और उनके समर्थक विधायक किसी तरह का गतिरोध नहीं चाहते. हमारी तरफ से सहयोग के हाथ बढे हुए हैं और संवाद बंद नहीं हो सकता. वह चाहते हैं कि उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार पूरे पांच चले और जनता के जो सपने टूट रहे हैं उन्हें बचाए.  रावत ने कहा कि उनका पार्टी के निर्णय पर प्रश्नचिन्ह लगाने का इरादा नहीं है लेकिन यह कहना गलत था कि उनके साथ विधायकों का समर्थन नहीं है.

विधायकों ने पक्ष में अपना समर्थन दिखा दिया है. रावत ने कहा कि वह किसी व्यक्ति विशेष के विरोध में नहीं हैं और न ही आक्षेप कर रहे हैं. कुछ गुजारिश कर रहे हैं जिन्हें मानना न मानना निर्णय लेने वालों के हाथ में है. रावत ने कहा कि वह तथा उनके साथी कांग्रेस के अंदर ही समाधान ढूंढ रहे हैं और पूरा मामला परिवार के अंदर का ही है.

Related Posts: