• सचिन और द्रविड़ क्रीज पर

नई दिल्ली. कोटला टेस्ट के तीसरे दिन आर अश्विन 6.47, के करियर की बेहतरीन गेंदबाजी के बाद वीरेंद्र सहवाग 55, और सचिन तेंदुलकर 33, व राहुल द्रविड़ 30, ने तीसरे विकेट के लिए अविजित 57 रनों की साझेदारी कर टीम इंडिया को जीत की राह पर ला दिया है. वेस्टइंडीज से पहला टेस्ट जीतने के लिए भारत को 124 रन और चाहिए जबकि उसके आठ विकेट शेष हैं.

अश्विन के कमाल की गेंदबाजी की बदौलत मैच के तीसरे दिन भारत ने वापसी करते हुए कैरेबियाई टीम की दूसरी पारी को 180 रनों पर समेट दिया. मेहमान टीम के लिए शिवनारायण चंद्रपाल ने सबसे ज्यादा 47 रन बनाए. करियर का पहला टेस्ट मैच खेल रहे आश्विन ने दूसरी पारी में छह विकेट झटके. पहली पारी के आधार 95 रन से पिछड़े भारत को जीत के लिए 276 रनों का लक्ष्य मिला. वेस्टइंडीज ने पहली पारी में 304 रन बनाए जिसके जवाब में भारत 209 रन बनाकर आउट हो गया. तीसरे दिन स्टंप के समय क्रीज पर तेंदुलकर और द्रविड़ डटे हुए हैं.

दोनों के बीच 57 रनों की साझेदारी हो चुकी हैं. इससे पहले सहवाग ने मैच की दूसरी पारी में भी 55 रन बनाए. मैच के तीसरे दिन कुल 10 विकेट गिरे. शतकों के सौवें शतक की दहलीज पर खड़े तेंदुलकर भले ही पहली पारी में बड़ा स्कोर खड़ा नहीं कर पाएं हों लेकिन दूसरी पारी में द्रविड़ के साथ तीसरे विकेट के लिए अविजित अर्धशतकीय साझेदारी कर अपने प्रशंसकों की उम्मीदें बढ़ा दी है. सचिन ने आज अपनी नाबाद पारी में जब 28 वां रन बनाया तो उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 15 हजार रनों का आंकड़ा भी पार कर लिया. रिकार्ड 182 वां टेस्ट मैच खेल रहे सचिन इस आंकड़े को छूने वाले दुनिया के पहले क्रिकेटर हैं. दूसरे दिन 17 विकेट गिरने वाले कोटला पिच पर 276 रनों के लक्ष्य के जवाब में भारत को सहवाग और गौतम गंभीर ने एक बार   फि र अच्छी शुरुआत दिलाई और पहले विकेट के लिए 51 रन जोड़े.

गंभीर के रूप में भारत का पहला विकेट गिरा. 32 गेंदों में तीन चौके के साथ 22 रन बनाने वाले गंभीर को मार्लोन सैमुअल्स ने पगबाधा कर चलता किया. दूसरी तरफ  सहवाग ने आक्रामक अंदाज में बल्लेबाजी की. हालांकि शुरुआत में ही वह एक नो बाल पर बोल्ड हो गए थे. इस जीवनदान का फ ायदा उठाते हुए सहवाग ने आतिशी बल्लेबाजी करते हुए पांच चौके व दो छक्के के साथ 55 रनों की पारी खेली. सहवाग ने पहली पारी में भी 55 रन बनाए थे. डेरेन सैमी ने सहवाग को बोल्ड भारत को दूसरा तगड़ा झटका दिया. सौ रन से पहले दो कीमती विकेट गंवाने के संकट में आए भारत को द्रविड़ और तेंदुलकर ने दिन का खेल खत्म होने तक और झटका नहीं लगने दिया और टीम का स्कोर 150 के पार पहुंचा दिया. इससे पूर्व सुबह दूसरे छोर से गेंद संभालने वाले प्रज्ञान ओझा की जगह आक्रमण पर लगाए गए अश्विन ने दिन के अपने छठे ओवर में पूरे वेस्टइंडीज को थर्रा कर रख दिया.

उन्होंने बाएं हाथ के बल्लेबाज के सामने राउंड द विकेट गेंदबाजी करने की रणनीति अपनाई और उनकी हवा में लूप लेकर हल्की उछाल लेती गेंद डेरेन ब्रावो 12, को पगबाधा आउट कर गई. अश्विन की इसी ओवर में बेहतरीन नियंत्रण से की गई कैरम बाल हल्की फ्लाइट लेकर मार्लोन सैमुअल्स , का आफ  स्टंप उखाड़ गई. सैमुअल्स ने इस गेंद पर सकुचाते हुए बल्ला हटाने की कोशिश जो आखिर में उनके लिए घातक साबित हुई. इससे कैरेबियाई टीम का स्कोर छह विकेट पर 63 रन हो गया. वेस्टइंडीज की उम्मीदें अब पहली पारी के शतकवीर शिवनारायण चंद्रपाल पर टिकी थी. चंद्रपाल ने विश्वसनीय तरीके से शुरुआत की. उन्होंने पहली पारी की तरह शुरू से ही अच्छे स्ट्राइक रेट से रन बनाने की रणनीति अपनाई और उमेश पर दो चौके जड़कर अपने इरादे जतलाए लेकिन अश्विन के अगले ओवर में दो विकेट गिरने से उन्हें रक्षात्मक होना पड़ा. चंद्रपाल के साथ कार्लटन बॉ 7, ने मिलकर अगले आठ ओवर तक विकेट नहीं गिरने दिया. धौनी ने तब ईशांत की जगह उमेश को गेंद थमाई और पहला विकेट लेने से उत्साहित विदर्भ के इस तेज गेंदबाज ने अपने दूसरे स्पैल के दूसरे ओवर में ही बॉ को विकेट के पीछे कैच देने के लिए मजबूर कर दिया. बाएं हाथ का यह बल्लेबाज शुरू से ही गेंदबाजों पर हावी होकर खेलने की कोशिश कर रहा था लेकिन अश्विन पूरे शबाब पर थे और चंद्रपाल को भी उनके सामने हार माननी पड़ी.

लंच के बाद वह चंद्रपाल के लिए ओवर द विकेट गेंदबाजी करने गए और हल्का टर्न लेती गेंद पर उन्हें पगबाधा आउट करके भारत को सबसे कीमती विकेट दिला गए. उन्होंने 58 गेंद पर सात चौकों की मदद से 47 रन बनाए तथा कप्तान डेरेन सैमी के साथ आठवें विकेट के लिए 40 रन जोड़े. किर्क एडवड्र्स 33, ने कुछ विश्वसनीय शाट लगाए लेकिन वह ज्यादा देर तक नहीं टिक पाए. उमेश की लगभग 140 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से की गई गेंद कोण लेकर अंदर आई और किर्क ने उसे छोडऩे के लिए हाथ उठा दिए लेकिन वह उनका आफ  स्टंप तीन मीटर दूर उड़ाकर ले गई. यह उमेश का पहला टेस्ट विकेट था.  अश्विन के अलावा उमेश यादव ने दो जबकि ओझा व ईशांत शर्मा ने एक.एक विकेट लिया.

Related Posts: