• पहला वन-डे मैच

हैदराबाद, 14 अक्टूबर.  कप्तान महेंद्र सिंह धौनी और सुरेश रैना के अर्धशतक के बाद रविंदर जडेजा व आर अश्विन की बेहतरीन गेंदबाजी के दम पर भारत ने पांच वनडे मैचों की सीरीज के पहले मुकाबले में इंग्लैंड पर 126 रनों की शानदार जीत दर्ज कर ली है. इस जीत के साथ ही टीम इंडिया ने इंग्लैंड में मिली पहली हार का पहला बदला भी चुकता कर लिया.

भारत की तरफ  से जडेजा और अश्विन ने तीन-तीन जबकि उमेश यादव ने दो विकेट चटकाए. मेजबान टीम से मिले 301 रनों के जवाब में मेहमान टीम केवल 174 रन ही बना सकी. इंग्लैंड की तरफ  से कप्तान एलिस्टर कुक ने 60, और जोनाथन ट्राट ने 26, रन बनाए. टीम इंडिया से मिले लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लिश टीम ने महज 134 रन पर अपने सात विकेट गंवा दिए थे. कप्तान महेंद्र सिंह धौनी की जिम्मेदारी भरी पारी और सुरेश रैना के अर्धशतक से भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ पहले एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में बेजान शुरुआत से उबरते हुए सात विकेट पर 300 रन का मजबूत स्कोर खड़ा किया.

इंग्लैंड दौरे में मिली हार का बदला चुकता करने के लिए आतुर भारत को शुरू में झटके सहने पड़े, उसने चार विकेट 123 रन पर गंवा दिए थे जिसके बाद धौनी और रैना ने जिम्मेदारी संभाली. धौनी ने 29वें ओवर में क्रीज पर उतरे और आखिर तक एक छोर पर टिके रहे. भारतीय कप्तान ने 70 गेंद पर नाबाद 87 रन बनाए जिसमें दस चौके और एक छक्का शामिल है. धौनी ने इस बीच रैना 55 गेंद पर 61 रन, के साथ पांचवें विकेट के लिए दस ओवर में 72 और रविंदर जडेजा 27, के साथ छठे विकेट के लिए 65 रन की उपयोगी साझेदारियां की. पार्थिव पटेल और आजिंक्य रहाणे की सलामी जोड़ी भारत को अच्छी शुरुआत नहीं दिला पाई. बारहवें ओवर तक इन दोनों के पवेलियन लौटने के बाद भी भारतीय बल्लेबाज दबाव में दिखे और वे दबदबे के साथ बल्लेबाजी नहीं कर पाए.

रहाणे को दूसरे ओवर में ही जीवनदान मिला जबकि जोनाथन ट्राट ने उनका आसान कैच टपका दिया था. भारत को हालांकि चौथे ओवर में पहला झटका सहना पड़ा. रहाणे ने स्ट्रेट ड्राइव लगाया जो गेंदबाज स्टीवन फि न के हाथ से लगकर नान स्ट्राइकर छोर पर विकेट पर लग गया. पार्थिव 9, शाट लगने से पहले ही आगे निकल चुके थे और उनके पास वापस लौटने का कोई मौका नहीं था. इंग्लैंड में कुछ विश्वसनीय पारियां खेलने वाले रहाणे आज किसी भी समय सहज नहीं दिखे. वह 12वें ओवर तक क्रीज पर टिके रहे. इस बीच उन्होंने 41 गेंद खेली लेकिन केवल 15 रन बना पाए जिसमें कोई बाउंड्री शामिल नहीं है. यह मैच वनडे के नए नियमों के तहत खेला जा रहा है जिसमें दोनों छोर से नई गेंद का उपयोग किया जा रहा है जबकि गेंदबाजी और बल्लेबाजी पावरप्ले 16 से 40 ओवर के बीच लिए गए. इसलिए दस ओवर के पहला अनिवार्य पावरप्ले समाप्त होने के बाद एलिस्टर कुक ने आफ स्पिनर ग्रीम स्वान को गेंद थमा दी.

स्वान का पहला ओवर ही कामयाब रहा. रहाणे ने उनकी गेंद आगे बढ़कर आफ साइड में उठाकर मारने की कोशिश की लेकिन गेंद उनका चकमा दे गई और बाकी काम विकेटकीपर क्रेग कीस्वेटर ने पूरा कर दिया. गौतम गंभीर 33 गेंद पर 32 रन, ने कुछ अच्छे शाट लगाए लेकिन कुक ने जब 17वें ओवर में गेंदबाजी पावरप्ले लिया तो बाएं हाथ का यह बल्लेबाज उसका फायदा उठाने से पहले ही पवेलियन लौट गया. जेड डर्नबाक की धीमी गेंद गंभीर को गच्चा देकर उनके पैड से जा टकराई और अंपायर ने पगबाधा आउट देने में कोई देर नहीं लगाई. विराट कोहली 37, ने भी क्रीज पर पांव जमाने को अधिक तरजीह दी. उनके लिए शाट लगाना मुश्किल हो रहा था.

क्रीज पर लंबा समय बिताने और 63 गेंद खेलने के बावजूद वह गेंद को एक बार भी सीमा रेखा के दर्शन नहीं करा पाए. ऐसे में उन पर लंबे शाट खेलने का दबाव बढ़ रहा था और जब समित पटेल की गेंद पर उन्होंने ऐसा प्रयास किया तो केविन पीटरसन ने लांग आफ बाउंड्री पर उसे बेहतरीन कैच में तब्दील कर दिया. इस बीच रैना ने एक दिवसीय क्रिकेट में 3000 रन पूरे किए. वह धौनी के साथ मिलकर स्कोर चार विकेट 123 रन से 195 रन तक ले गए. मैच पर भारतीय दबदबा तभी दिखा जब ए दोनों क्रीज पर थे. विशेषकर 35वें ओवर के बाद लिए बल्लेबाजी पावरप्ले में रैना ने गेंदबाजों को सबक सिखाने की पूरी कोशिश की.

रैना ने टिम ब्रेसनन की गेंद पर पहला चौका और फि र छक्का जड़कर अपना 18वां वन डे अर्धशतक पूरा किया. फि न के अगले ओवर में भी उन्होंने गेंद छह रन के लिए भेजी लेकिन उछाल लेती अगली गेंद को यही सबक सिखाने के प्रयास में वह गेंद हवा में लहरा गए जिसे बेयरस्टॉ ने कैच में बदलने में कोई गलती नहीं की. धौनी ने फिन के इस ओवर में लगातार दो चौके जमाए थे लेकिन रैना के पवेलियन लौटने से उन्हें अपने तेवरों विराम लगाना पड़ा. धौनी ने 44वें ओवर की अंतिम गेंद पर अपना अर्धशतक पूरा किया जिसके लिए उन्होंने 48 गेंद खेली. स्लाग ओवरों में आक्रामक तेवर दिखाने की शुरुआत जडेजा 22 गेंद पर 27 रन, ने की. उन्होंने 45वें ओवर में पटेल की लगातार दो गेंद साइटस्क्रीन और लांग आन क्षेत्र में छह रन के लिए भेजा लेकिन वह जल्द ही रन आउट हो गए. धौनी ने 49वें ओवर में फिन पर छक्का और दो चौके जड़कर 16 रन बटोरे जिससे भारत 300 रन का आंकड़ा छूने में सफल रहा.

 

 

 

Related Posts: