पेट्रोल मूल्य वृद्धि : दो रुपए तक घट सकते है दाम

नई दिल्ली. पेट्रोल की कीमत में लगभग 7.50 रूपए प्रति लीटर की अभूतपूर्व वृद्धि के विरोध में भारतीय जनता पार्टीनीत विपक्षी एनडीए, वाम दलों और व्यापारी संगठनों ने गुरूवार को राष्ट्रव्यापी बंद का आह्वान किया है. दूसरी ओर सरकार गुरूवार को ही शायद पेट्रोल के दाम डेढ से दो रूपए प्रतिलीटर तक घटाने का एलान कर सकती है.

ज्ञात रहे, एनडीए ने संसद के बजट सत्र की समाप्ति के तुरंत बाद पेट्रोल की कीमत में वृद्धि को कमरतोड़ महंगाई से त्रस्त जनता के साथ क्रूर मजाक बताते हुए 31 मई को राष्ट्रव्यापी हडताल करने का फैसला किया था. इसके साथ ही माकपा की अगुवाई में चारों वामपंथी दलों ने बढोतरी वापस लेने की मांग को लेकर अखिल भारतीय विरोध दिवस को आह्वान किया है. माकपा के महासचिव प्रकाश करात, भाकपा महासचिव सुधाकर रेड्डी, फारवर्ड ब्लाक के महासचिव देवब्रत विश्वास तथा आरएसपी के महासचिव जे चंद्रचूडन ने बुधवार को यहां एक साझा वक्तव्य में कहा कि वे गुरूवार को पूरे देश में हडताल, प्रदर्शन, धरना, रास्ता रोको तथा रैलियों का आयोजन करेंगे. अखिल भारतीय व्यापारी परिसंघ ने पेट्रोल की कीमत में भारी वृद्धि का विरोध करते हुए कहा है कि सरकार को अपने करों में कटौती करनी चाहिए.

डेढ-दो रूपए सस्ता होगा पेट्रोल…

उधर तेल विपणन कंपनियों की गुरूवार को होने वाली बैठक में पेट्रोल की कीमतों में कमी किए जाने का फैसला किया जा सकता है. ऐसी उम्मीद है कि तेल कंपनियां पेट्रोल के दाम डेढ से दो रूपए प्रति लीटर तक कम कर सकती है. इंडियन ऑइल कार्पोरेशन लिमिटेड, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड और भारत पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड नेकच्चे तेल की कीमत में उछाल और डॉलर के मुकाबले रूपए के कमजोर पडने से गत बुधवार को दाम 6.28 रूपए प्रति लीटर बढा दिए थे.

बढी कीमत पर करों को मिलाकर यह बढोतरी 7.54 रूपए प्रति लीटर थी. आईओएल के अध्यक्ष आर एस बुटोला ने सोमवार को कंपनी के नतीजे घोषित करने क अवसर पर संकेत दिए थे कि पाक्षिक बैठक में पेट्रोल की कीमतों पर विचार किया जाएगा और कच्चे तेल की कीमतों में नरमी और रूपया मजबूत होता है तो इसका फायदा उपभोक्ताओं को पहुंचाया जाएगा.

चक्काजाम और प्रदर्शन होगा
दिल्ली/मप्र के विभिन्न क्षेत्रों से. एनडीए, समाजवादी पार्टी और लेफ्ट ने पेट्रोल के बढ़े दामों के खिलाफ 31 मई को भारत बंद के लिए पूरी कमर कस ली है। बीजेपी के नेता राजीव प्रताप रूडी के मुताबिक पार्टी के संसद सदस्यों और विधायकों को अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर प्रदर्शन में जुटने को कहा गया है। बंद को समर्थन देने के लिए आज राजधानी के छोटे-बड़े 300 बाजारों में मशाल जूलूस व मार्च निकाला जा रहा है। मध्यप्रदेश में भी बीजेपी कार्यकर्ता कल सुबह से ही बंद शुरू कर देंगेा। बीजेपी के 50 हजार कार्यकर्ता प्रदेशभर में विभिन्न स्थानों पर चौराहों पर चक्का जाम करेंगे। उधर दिल्ली में भाजपा ने लोगों से अपील है कि वे कल डीटीसी की बसों और मेट्रो में सफर न करें। उन्हें बस ऑपरेटरों, संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर, रोशन आरा व पंजाबी बाग के ट्रांसपोर्टरों से भी बंद का समर्थन मिला है।

उनकी सरकार से मांग है कि सीएनजी पर लगाया वैट हटाओ और पेट्रोल की बढ़ी कीमतें वापस लो। गुप्ता का कहना है कि आज राजधानी के 300 बाजारों में मशाल जूलूस व मार्च निकाला जा रहा है। कनॉट प्लेस में तो आज 4 बजे से ही मार्च किया जाएगा। करोल बाग, चांदनी चौक, करोल बाग, मालवीय नगर, लाजपत नगर, साउथ एक्सटेंशन, कमला नगर, विकास मार्ग, सदर बाजार सहित प्रमुख बाजारों में भी आज मशाल जूलूस निकाला जा रहा है। उधर, फेडरेशन ऑफ सदर बाजार एसोसिएशन के वाइस चेयरमैन परमजीत सिंह पम्मा व अध्यक्ष पवन कुमार ने बंद में शामिल होने की घोषणा की है। सदर बाजार में करीब 40 हजार दुकानदार हैं। वहीं चांदनी चौक की बुलियन मर्चेंट एसोसिएशन के संयुक्त सचिव सुशील जैन के मुताबिक कल मार्केट बंद रहेगा। द बुलियन ऐंड जूलर्स वेलफेयर असोसिएशन, कूचा महाजन सर्राफा असोसिएशन भी इस बंद में शामिल हो रहे हैं। ऑटो यूनियनें भी बंद में शामिल हो रही हैं। भारतीय प्राइवेट ट्रांसपोर्ट मजदूर महासंघ के अध्यक्ष राजेंद्र सोनी ने ऐलान किया है कि राजधानी की सभी ऑटो रिक्शा आज रात 12 बजे से बंद रहेंगी। ऑल इंडिया टूरिस्ट टैक्सी असोसिएशन के महासचिव सूरज प्रकाश वैद ने भी बंद का ऐलान किया है। उनका कहना है कि ऑल इंडिया परमिट की करीब 5000 टैक्सी हैं। इसके अलावा रेडियो टैक्सी, काली-पीली टैक्सी भी इस बंद में शामिल हो रही हैं। काली-पीली 7000 टैक्सियां हैं, जबकि राजधानी में 1000 के आसपास रेडियो टैक्सी हैं। लोगों को ऑफिसों तक ले जाने वाली 1200 के आसपास चार्टेड बसें भी कल नहीं चलेंगी। चार्टेड बस असोसिएशन के संयोजक राजेश चोपड़ा का दावा है कि कल एक भी बस नहीं चलेगी।

Related Posts: