डेढ़ वर्ष बाद भारत-पाक भिड़ंत पर होंगी दुनियाभर की निगाहें

कोलंबो, 16 सितंबर. आईसीसी विश्वकप 2011 के सेमीफाइनल के करीब डेढ़ वर्ष बाद कोलंबों में ट्ïवंटी-20 विश्वकप से पूर्व अभ्यास मैच के लिए जब भारत और पाकिस्तान की टीमें आमने सामने होंगी तो दुनियाभर की निगाहें उन्हीं पर लगी होंगी.

भारत और पाकिस्तान के बीच सोमवार को खेला जाने वाला यह मैच भले ही अभ्यास मैच है लेकिन दोनों टीमों के बीच मैदान पर होने वाली टक्कर कितनी खास है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि दोनों ही टीमों के खिलाड़ी एक-दूसरे का सामना करने के लिए पहले ही अपनी उत्सुक्ता जाहिर कर चुके हैं और ब्राडकास्टर भी इस मौके को भुनाने के लिए इस मैच का सीधा प्रसारण करने के लिए तैयार हैं. लंबे अर्से के बाद एक-दूसरे का सामना करने को बेकरार भारत और पाकिस्तान दोनों ही टीमों की स्थिति इस वक्त काफी मजबूत दिखाई दे रही है. हाल ही में भारत ने न्यूजीलैंड को अपनी जमीन पर टेस्ट मैचों की सीरीज में शिकस्त दी है हालांकि उसे एक ट्ïवंटी-20 मैच में महज एक रन से हार का सामना करना पड़ा था लेकिन इससे टीम के हौंसले पर कोई फर्क नहीं पड़ा है.

दूसरी और भारत की चिरप्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान ने दुबई में आस्ट्रेलिया के खिलाफ हाल ही में संपन्न सीरीज में अपने शानदार प्रदर्शन से विश्वकप ट्ïवंटी-20 में अपनी तैयारी और ईरादे दोनों का ही नमूना पेश कर दिया है. हालांकि विश्वकप में अन्य टीमों को धूल चटाने का दावा करने वाली पाकि स्तानी टीम को आस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के तीसरे और आखिरी ट्ïवंटी-20 मैच में 94 रनों की जबरदस्त हार झेलनी पड़ी थी. विश्व विजेता भारतीय टीम और पाकिस्तानी टीम आखिरी बार मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए विश्वकप सेमीफाइनल के दौरान आमने सामने मैदान पर आई थी. इसके लंबे अर्से के बाद अब सोमवार को श्रीलंका के आर प्रेमदासा स्टेडियम में दोनों टीमें एक बार फिर भिडऩे जा रही हैं.

भारतीय टीम की बात की जाए तो कमोबेश सभी खिलाडिय़ों का प्रदर्शन इस वक्त अपेक्षा के अनुरूप ही दिखाई दे रहा है. कप्तान महेंद्र सिंह धोनी, टीम के युवा बल्लेबाज विराट कोहली, सुरेश रैना, विस्फ्टोक और बेहद अनुभवी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग, लंबे समय के बाद वापसी कर रहे आलराउंडर युवराज सिंह सभी से शानदार प्रदर्शन की उम्मीद है. श्रीलंका के खिलाफ खेले गए अभ्यास मैच में भी इन खिलाडिय़ों का प्रदर्शन अच्छा था और टीम को मेजबान श्रीलंका पर 26 रन की जीत दिलाकर टीम के बल्लेबाजों और पांच विकेट चटकाकर हैरान करने वाले गेंदबाज इरफान पठान, लक्ष्मीपति बालाजी तीन विकेट, आफ स्पिनर हरभजन सिंह एक विकेट और जहीर खान एक विकेट ने अपनी तैयारियों को बाखूबी सभी के सामने दिखा दिया.
दूसरी ओर आस्ट्रेलिया के खिलाफ् मजबूत प्रदर्शन कर चुकी पाकिस्तानी टीम की ओर से भी ट्ïवंटी-20 विश्वकप में बड़े उलटफेर की उम्मीद की जा सकती है. पाकिस्तानी टीम के कप्तान मोहम्मद हाफीज. सीनियर खिलाड़ी शाहिद आफरीदी, शोएब मलिक, कामरान अकमल, उमर गुल, यासिर अराफात, अब्दुल रज्जाक जैसे खिलाडिय़ों से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है.

मंगलवार से शुरू होने जा रहे ट्ïवंटी-20 विश्वकप में अलग-अलग ग्रुप की ये दोनों टीमें टूर्नामेंट में आमने-सामने होंगी या नही इस बारे में तो फिलहाल नहीं कहा जा सकता है लेकिन अभ्यास मैच में ही आपस में भिडऩे को लेकर दोनों ओर काफी उत्सुक्ता है. पाकिस्तान के कप्तान मोहम्मद हफीज पहले ही अभ्यास मैच में भारत के खिलाफ खेलने का मौका मिलने को सुनहरा अवसर बता चुके हैं. हफीज ने यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच मैच हमेशा ही महत्वपूर्ण होता है और इसलिए पहले ही इसका अभ्यास करने का मौका मिलना काफ्ी फायदेमंद साबित होगा.

भारतीय टीम के कोच डंकन फ्लेचर ने भारत और पाकिस्तान के बीच सोमवार को होने वाले अभ्यास मैच को अहम बताते हुए कहा हम यहां इस उम्मीद के साथ आए हैं कि हमारी टीम ट्ïवंटी-20 विश्वकप जीत सकती है. ऐसे में पाकिस्तान के खिलाफ अभ्यास मैच का मौका मिलना काफी फ्यादेमंद साबित होगा क्योंकि इससे हमें टीम की तैयारियों का भी आभास हो सकेगा. भारतीय गेंदबाज इरफान पठान ने पाकिस्तानी टीम को धूल चटाने के अपने सपने को जाहिर करते हुए कहा हम इस मैच को जीतना चाहते हैं. हम लंबे समय के बाद पाकिस्तान के खिलाफ खेल रहे हैं. खासतौर पर मैं तो काफी समय के बाद पाकिस्तान के खिलाफ मैदान पर खेलूंगा. मैं इसे लेकर काफी उत्साहित हूं. 18 सितंबर से शुरू होने जा रहे विश्वकप के लिए भारत और पाकिस्तान की टीमों को शुरूआती मुकाबलों के लिए दो अलग-अलग ग्रुप में शामिल किया गया है. लेकिन सुपर आठ में दोनों टीमों के बीच मुकाबला होने की उम्मीद है. सुपर आठ के मुकाबले कोलंबो में 30 सितंबर से खेले जाने हैं.

गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान की टीमों ने दक्षिण अफ्रीका में वर्ष 2007 में ट्वंटी-20 विश्वकप के पहले संस्करण में ही एक-दूसरे के खिलाफ दो मैच खेले थे. मौजूदा कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में खेले गए पहले विश्वक प में दोनों टीमों के बीच हुए फाइनल मुकाबले में भारत ने पांच रन से जीत हासिल की थी.

Related Posts: