राहुल ने अवाम से किया सीधा संवाद

गोरखपुर, 8 जनवरी. कांग्रेस के स्टार प्रचारक राहुल गांधी शनिवार को यहां पूरे रौ में थे. भटहट की सोलह मिनट की सभा में विरोधियों पर चुन-चुनकर तीर छोड़े. खास बात यह रही कि जनता से सीधा संवाद बनाने की कोशिश की. जनता से सवाल भी किया और उसका जवाब जनता से लिया और खुद भी दिया. उनके निशाने पर पर सर्वाधिक भाजपा व बसपा रही. सपा को अपराधीकरण के मुद्दे पर घेरा.

पूर्वाचल में चुनावी अभियान की शुरुआत करने आए कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने जनसभाओं में जनता से सीधा संवाद किया. उन्होंने न सिर्फ असरदार तरीके से अपनी बातें कहीं. एनडीए के इंडिया शाइनिंग के नारे की चर्चा करते हुए भीड़ से इसका मतलब पूछा. जवाब मिला चमकता भारत. इसके बाद बताना शुरू किया कि यह नारा कहां से आया. नैतिकता और मूल्यों की बात करने वाली भाजपा और उसके शिखर पुरुष लालकृष्ण आडवाणी का नाम लेकर उसको भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कठघरे में खड़ा किया. पिछले बाइस साल तक प्रदेश में रही भाजपा, सपा व बसपा की सरकारों हमला बोलने के बाद एक-एक पार्टियों के बारे में जनता से मुखातिब होकर राय ली.

जनता से पूछा कि भाजपा ने राम का नाम बेचा, कुछ मिला, जनता से आवाज आई नहीं. फिर सपा पर निशाना साधते हुए पूछा कि जाति के नाम पर सत्ता में आई सपा शासन में कुछ मिला, जनता ने कहा नहीं. फिर पूछा कि मायावती सरकार से कुछ मिला, जवाब नहीं. सवाल किया जो जिस हजारों करोड़ रुपए का घोटाला किया गया वह कहां से आता है. भीड़ से आवाज आई कि जनता का पैसा है. कुल मिलाकर राहुल गांधी ने अपने संबोधन में भीड़ को बांधे रखा तथा उनको वहीं जबाव मिला जैसा की वह चाहते थे. जनता को अपनी बातों से पूरी तरह संतुष्ट देख उन्होंने अपील की कि बाईस वर्षो में आपने दूसरे दलों को मौका दिया, अब पांच वर्षो के लिए हमें मौका दीजिए, हम यूपी को बदल देंगे,  फिर साथ का भरोसा भी दिलाते हुए कहा कि जबतक यूपी की जनता अपने पैरों पर खड़ी नहीं होती हम उसके साथ खड़े रहेंगे.

Related Posts: