कोलंबो, 18 जुलाई. कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी की अगुवाई में भारत की 15 सदस्यीय टीम श्रीलंका पहुंची. टीम का शानदार स्वागत किया गया. इस अवसर पर श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड के आलाधिकारी मौजूद थे. भारतीय टीम श्रीलंका में पांच मैचों की वनडे सीरीज और एकमात्र टवंटी-20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेलेगी.

भारतीय टीम जेट एयरवेज की उड़ान से दोपहर बाद तीन बजे श्रीलंका पहुंच गई. उत्साह से भरी टीम इंडिया चेन्नई से साढ़े बारह बजे श्रीलंका के लिए रवाना हुई थी. लगभग डेढ़ महीने के ब्रेक के बाद भारतीय टीम नए सत्र के लिए तरोताजा हुई है और धोनी ने जीत के साथ नए सत्र की शुरआत करने का भरोसा जताया है. श्रीलंका दौरे के लिए टीम का दो दिवसीय शिविर चेन्नई में आयोजित किया गया था.

श्रीलंका के सितंबर, अक्टूबर में होने वाले आईसीसी टवंटी-20 विश्वकप की तैयारियों के लिए टीम इंडिया के इस दौरे को बेहद अहम माना जा रहा है. भारत और श्रीलंका के बीच पांच मैचों की वनडे सीरीज 21 जुलाई से हम्बनतोता में शुरु होगी. अपनी चोटों से उबर चुके विस्फोटक ओपनर वीरेन्द्र सहवाग और तेज गेंदबाज जहीर खान की इस दौरे के लिए टीम में वापसी हुई है लेकिन हेमस्ट्रिंग की चोट के कारण कर्नाटक के तेज गेंदबाज आर विनय कुमार दौरे से बाहर हो गए हैं. विनय की जगह आलराउंडर इरफान पठान को टीम में लिया गया है.
टीम इंडिया के कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने कहा कि चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ मुकाबले में भावुकता की कतई जगह नहीं है और खिलाड़ी नवंबर में होने वाली श्रृंखला में इसका पूरा ध्यान रखेंगे.

धोनी ने श्रीलंका दौरे पर रवाना होने की की पूर्व आज यहां कहा कि प्रोफेशनल क्रिकेटर होने के नाते हमें भावुकता को हावी नहीं होने देना चाहिए. दोनों देशों के बीच सीरीज की घोषणा हो चुकी है और हमें इसके लिए तैयार रहना है. कप्तान ने साथ ही कहा कि श्रीलंका दौरा भारतीय खिलाडिय़ों के पाकिस्तान के खिलाफ श्रृंखला के लिए भी तैयार होने का मौका देगा. उन्होंने कहा कि हम इस चुनौती के लिए तैयार हैं. हम फैसला लेने वाले लोग नहीं हैं लेकिन जब सीरीज की घोषणा हो चुकी है तो हमें इसके लिए तैयार भी रहना होगा. उन्होंने कहा कि पेशेवर खिलाड़ी होने के नाते हमसे हमेशा उम्मीद की जाती है कि हम तैयार रहें और जैसे ही कहा जाए मैदान में जाकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें तथा मैच जीतने की कोशिश करें. हम ऐसा ही करते हैं.

Related Posts: