• श्रीलंका दौरा

मुंबई, 4 जुलाई. चोटों से उबर चुके विस्फोटक ओपनर वीरेन्द्र सहवाग और बाएं हाथ के तेज गेंदबाज जहीर खान की श्रीलंका दौरे के लिए आज घोषित 15 सदस्यीय भारतीय टीम में वापसी हो गयी है. लेकिन मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने वनडे सीरीज और एकमात्र ट्ïवंटी-20 अंतर्राष्ट्रीय मैच के इस दौरे से विश्राम लेने का फैसला किया है.

मुख्य चयनकर्ता कृष्णामाचारी श्रीकांत की अध्यक्षता में चयन समिति की यहां हुई बैठक में टीम का चुनाव किया गया. टीम इंडिया को श्रीलंका में 21 जुलाई से चार अगस्त तक पांच मैचों की वनडे के बाद सात अगस्त को एक ट्ïवंटी-20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेलना है. आस्ट्रेलिया में त्रिकोणीय सीरीज और उसके बाद आईपीएल में निराशाजनक प्रदर्शन करने वाले आलराउंडर रवीन्द्र जडेजा को टीम में जगह नहीं मिली है. सहवाग और जहीर के साथ-साथ तेज गेंदबाज उमेश यादव की भी टीम में वापसी हुई है. ये तीनों खिलाड़ी फिटनेस कारणों से मार्च में बंग्लादेश में हुए एशिया कप में नहीं खेले थे लेकिन उन्होंने आईपीएल-पांच में अपनी-अपनी टीमों के लिए शानदार प्रदर्शन किया था.

एशिया कप के लिए नहीं चुने गए लेफ्ट आर्म स्पिनर प्रज्ञान ओझा की भी टीम में वापसी हुई है. ओझा ने आईपीएल में शानदार प्रदर्शन करते हुए 24.44 के औसत से नौ विकेट लिए थे. सचिन ने इस दौरे से विश्राम लेने का फैसला किया था जिसके बाद चयन के लिए उनके नाम पर विचार नहीं किया गया. हाल में राज्यसभा के लिए नामांकित किए गए सचिन ने विश्वकप के बाद मात्र दो वनडे सीरीज खेली हैं. सचिन के स्थान पर मुंबई के युवा बल्लेबाज अजिंक्या रहाणे को टीम में शामिल किया गया है. जडेजा की जगह लेफ्ट आर्म स्पिनर प्रज्ञान ओझा को टीम में जगह मिली है. आईपीएल में निराशाजनक प्रदर्शन करने वाले तेज गेंदबाज प्रवीण कुमार को भी टीम में जगह नहीं मिली है.

चयनकर्ताओं ने उनकी जगह उमेश को तरजीह देते हुए टीम में शामिल किया है. साथ ही एशिया कप में खेले पठान बंधुओं यूसुफ और इरफान भी टीम में जगह बनाने में नाकाम रहे. लेकिन बल्लेबाज मनोज तिवारी और लेग स्पिनर राहुल शर्मा टीम में अपनी जगह बरकरार रखने में सफल रहे.  टीम में सात विशेषज्ञ बल्लेबाज. चार तेज गेंदबाज. विकेटकीपर के रूप में कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी और तीन विशेषज्ञ स्पिनर मौजूद हैं.  दिल्ली के युवा बल्लेबाज विराट कोहली को उपकप्तान बरकरार रखा गया है.  पिछले वर्ष अपनी जमीन पर विश्वकप जीतने के बाद से टीम इंडिया के प्रदर्शन में निरंतर गिरावट आयी है. टीम इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया में एक भी टेस्ट नहीं जीत सकी थी और फिर गत मार्च में एशिया कप के फाइनल में पहुंचने में भी नाकाम रही थी.

Related Posts:

बॉलीवुड के सबसे बड़े नकलची बनते रणबीर!
रेटिंग घटने की चिंता से गिरे शेयर
रिजर्व बैंक का एकाधिकार समाप्त करने की तैयारी
आदर्श ग्राम के लिए गांवों की आर्थिक मजबूती जरूरी: वीरेंद्र सिंह
हिंदू धर्म छोड़कर गए लोगों को नहीं मिलेगा अनुसूचित जाति का दर्जा : गहलौत
ऑल इंडिया रेडियो भोपाल को मिला अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार