अपने सेमीनार में ग्रीन बिल्डिंग कांसेप्ट पे दिया जोर

भोपाल,8 जुलाई, इंस्टिट्यूट ऑफ  इंडियन इंटीरियर डिजाइनर्स ( आई.आई.आई.डी ) एंड कोहलर की ओर से शनिवार को आर्कीटेक्ट करण ग्रोवर कांक्लेव का आयोजन किया गया.

आर्कीटेक्ट करण ग्रोवर को सुनने के लिए काफी सारी संख्या में उनके फैन्स एवं स्टुडेंट्स मौजूद थे. यह कांक्लेव अपेक्स बैंक समन्वय भवन में आयोजित हुआ. इसमें इंटरनेशनल लेवल के आर्कीटेक्ट करण ग्रोवर ने टेक्नीकल सेशन को एड्रेस किया. इस मोके पर चीफ गेस्ट के रूप में स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्कीट्रेक्चर (एस.पी.ए) के डायरेक्टर प्रो अजय खरे, गेस्ट ऑफ ऑनर के रूप में इंस्टिट्यूट ऑफ इंडियन इंटीरियर डिजाइनर्स के प्रेसिडेंट बंकिम दवे, आई.आई.आई.डी भोपाल सेंटर के चेयरमेंन अक्षय सेलुकर तथा आई.आई.आई.डी के ऑनरऐबल सेक्रेटरी कमलरूप सिंह मौजूद थे.

आर्कीटेक्ट करण ग्रोवर ने सभा को संबोधित करते हुऐ इस बात पर महत्व दिया की हम सभी में से हर एक व्यक्ति अपने स्तर पर प्रयत्न करके परिवर्तन ला सकता है, क्यूंकि भारत सभ्यता एवं प्राचीन धरोहरों का धनी है. हमारे खून में ही कला बसी हुई है एवं इन विशेषताओं का लाभ उठा कर हम दुनिया की सबसे अच्छी इमारतें बना सकते हैं, जो अपने आप में कला और आर्कीटेक्चर का अदभुत नमूना होंगी.

उन्होंने अपनी बात में पर्यावरण की दृष्टि से उन्मुख वास्तुकला के महत्व पर बल देते हुए कहा की आज प्रासंगिक सतत विकास के लिए हमें भारतीय संदर्भ में समकालीन वास्तुकला, संस्कृति और विरासत से सीख लेते हुए ऐसी इमारतों का निर्माण करने पर जोर देना चाहिए जो आज दुनिया भर में ग्रीन बिल्डिंग के नाम से जानी जाती हैं. उल्लेखनीय है की ग्रोवर दुनिया के पहले वास्तुकार हैं जिन्हें उनकी ग्रीन बिल्डिंग निर्माण के लिए दुनिया भर में प्रतिष्ठित अमेरिका का जीबीसी प्लेटिनम पुरस्कार प्राप्त हुआ है.

Related Posts: