राजग घटक दलों के बीच खटास में इजाफा

नई दिल्ली, 22 जून. राष्ट्रपति के मुद्दे पर एनडीए के घटक दलों बीजेपी और जेडीयू के बीच आई खटास और बढ़ती जा रही है. दोनों दलों ने कल राष्ट्रपति पद के अलग-अलग उम्मीदवारों को समर्थन देने की घोषणा की और शुक्रवार को दोनों दल महंगाई पर भी भिड़ गए.

बीजेपी ने महंगाई का वास्ता देते हुए जेडीयू से पी. ए. संगमा को सपोर्ट करने की अपील की, लेकिन जेडीयू ने टका सा जवाब देते हुए कहा कि जैसे वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने महंगाई पर अंकुश लगाया है, वैसे तो बीजेपी नेता भी नहीं लगा पाते. गौरतलब है कि महंगाई के मुद्दे पर बीजेपी ने शुक्रवार को जेल भरो आंदोलन चलाया. इसके तहत पटना में कार्यकर्ताओं की अगुआई करने पहुंचे बीजेपी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने जेडीयू से अपील की कि वह राष्ट्रपति पद के लिए प्रणव मुखर्जी को समर्थन करने के अपने निर्णय पर दोबारा सोचे.

बीजेपी की इस अपील पर जेडीयू प्रवक्ता शिवानंद तिवारी ने कड़ी प्रतिक्रिया दी. तिवारी ने कहा कि हम बीजेपी और अकाली दल से अपील करते हैं कि वे प्रणव को सपोर्ट करे. प्रणव का पक्ष लेते हुए उन्होंने कहा कि जिस तरह से उन्होंने (प्रणव) ने महंगाई को रोका है अगर रविशंकर प्रसाद भी वित्त मंत्री होते तो नहीं रोक पाते. गौरतलब है कि राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए के घटक दल बीजेपी और अकाली दल ने संगमा को समर्थन देने का फैसला किया है, वहीं जेडीयू और शिवसेना यूपीए के उम्मीदवार प्रणव मुखर्जी के पक्ष में वोट देने की घोषणा कर चुके हैं.

एनड़ीए  घटक दलों में फूट नहीं

भोपाल,22 जून,नभासं. लोकसभा में भाजपा सांसद दल की नेता सुषमा स्वराज ने आज कहा कि राजग में कोई फूट नहीं है और गठबंधन एकजुटता के साथ काम कर रहा है.

उन्होंने अपने इस कथन के परिपेक्ष्य में तर्क दिया कि पिछले राष्ट़पति चुनाव के समय शिवसेना ने प्रतिभा पाटिल का मराठी मानुष के आधाार पर समर्थन किया था पर वह  आज भी एनडीए का  ाटक दल बना हुआ है.भाजपा के देशव्यापी जेल भरो आंदोलन का नेतृत्व करते हुए स्वराज गिर तारी देने के बाद प ाकारों द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब में बोल रही थी. उ होंने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव के उ मीदवार को लेकर राजग के  घटक दलों में मतभिन्नता का मतलब यह नहीं है कि इसमें फूट पड गई है.उ होंने कहा कि गठबंधन में शामिल दलों की किसी विषय पर एक राय नहीं होना सामा य बात है.उहोंने कांग्रेस द्वारा पी ए संगमा को भाजपा का उधार का उ मीदवार बताने के सवाल के जवाब में कहा कि यह कांग्रेस की गलत सोच का प्रमाण है.

उ होंने कहा कि संगमा ओडीसा और तमिलनाडु के मु मुख्यमंत्री के उम्मीदवार होने के साथ देश के पूर्वोत्तर क्षेत्र के कद्दावर आदिवासी नेता और सफल लोकसभा अ यक्ष रहे हैं. श्रीमती स्वराज ने गैर सांप्रदायिक व्यक्ति को प्रधानमंत्राी पद का उ मीदवार बनाने के सवाल के जवाब में कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव की अभी  घोषणा नहीं हुई है इसलिए प्रधानमंत्री पद के उ मीदवार का सवाल गैरप्रासंगिक और इसे उठाया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है.उ होंने कहा कि भाजपा का संसदीय बोर्ड उचित समय पर प्रधानमंत्री के मामले में निर्णय लेगा.नेता प्रतिपक्ष ने एक अ य के सवाल के जवाब में कहा कि केंद्र सरकार समय समय पर खाद्य एवं आवश्यक वस्तुओं के दामों में वृद्धि करने के साथ एक्साइज डयूटी और करों की दर बढाती रहती है और राज्य सरकारों से अपने करों को कम करने की अपेक्षा करती है. उ होंने कहा कि यदि के द्र सरकार महंगाई से आम आदमी को राहत दिलाना चाहती है तो पहले उसे एक्साइज डयूटी में कमी करना चाहिए और इसके बाद राज्य सरकारों से उनके करों को कम करने के संबंध में चर्चा करें.

कच्चा तेल सस्ता तो पेट्रोल महंगा क्यों: जेटली

बढ़ती महंगाई और पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोतरी के विरोध में भारतीय जनता पार्टी ने देशभर में शुक्रवार को जेल भरो आंदोलन छेड़ा है। देश के विभिन्न इलाकों में भाजपा कार्यकर्ता महंगाई के विरोध में अपनी गिरफ्तारियां दे रहे हैं। मुंबई में मंत्रालय की आगजनी को लेकर आंदोलन वापस ले लिया गया है। जेल भरो आंदोलन के दौरान नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर भाजपा नेता अरुण जेटली ने यूपीए सरकार पर हमले तेज करते हुए कहा कि यह सरकार घोटाले की सरकार बन गई है। इसके साथ न तो जनता है न ही नेतृत्व। पेट्रो पदार्थों की कीमतों में लगातार बढ़ोत्तरी पर जेटली ने कहा कि ये कैसी विडंबना है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत घट रही है और केंद्र सरकार पेट्रोल की दाम बढ़ाने में लगी हुई है।

Related Posts:

महंगाई के तेजी से बढऩे का मुख्य कारण पेट्रोल दाम में वृद्धि: नाईक
दुविधा: किसे हटाएं किसे बनाएं मंत्री
पर्सन ऑफ द ईयर की रेस में अंबानी, मोदी और पिचाई
शंघाई सहयोग संगठन में शामिल होने ताशंकद पहुंचे मोदी
आतंकवाद के खिलाफ जम कर बोले राजनाथ, भाषण के प्रसारण पर प्रतिबंध
उत्तर प्रदेश के लोगों का कांग्रेस पर बढ रहा है भरोसा : शीला दीक्षित