एंडी रोक्सबर्ग ने  कहा

कीव, 2 जुलाई. स्पेन की यूरो कप में इटली के खिलाफ 4-0 की ऐतिहासिक जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले आंद्रेस इनिस्ता को यूएफा ने आज टूर्नामेंट का सर्वश्रेष्ठ खिलाडी घोषित किया.

यूएफा के तकनीकी ग्रुप के प्रमुख एंडी रोक्सबर्ग ने संवाददाताओं से कहा आंद्रियो पिर्लो इटली के लिए शानदार थे. जावी में पिछली बार यह पुरस्कार जीता था और इस बार भी जीत सकते थे. जाबी अलोंसो भी बेहतरीन थे लेकिन इनिस्ता स्पेन की जीत के निर्णायक हीरो रहे और उन्होंने पूरे टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन किया. यूरो कप के बाद यूएफा की टूर्नामेंट से चुनी गई आल स्टार टीम इस प्रकार हैं. गोलकीपर- जियानलुइगी बफन, इटली. इकेर कैसिलास,स्पेन और मैनुअल न्यूएर,जर्मनी. डिफेंडर- गेरार्ड पिक, स्पेन. फेबियो कोएंट्रो, पुर्तगाल. फिलिप लाम, जर्मनी. पेपे, पुर्तगाल. सर्जियो रामोस, स्पेन.जोर्डी अल्बा, स्पेन. मिडफील्डर-डेनियल डि रोसी, इटली. स्टीवन गेरार्ड, इंग्लैंड. जावी, स्पेन. आंद्रेस इनिस्ता, स्पेन.सामी खेदिरा, जर्मनी. सर्जियो बुस्केट्स, स्पेन. मेसुत ओजिल, जर्मनी. आद्रिंया पिर्लो, इटली. जाबी आलोंसो, स्पेन. फारवर्ड-मारियो बालोतेली, इटली.सेस्क फेब्रेगास, स्पेन. क्रिस्टियानो रोनाल्डो, पुर्तगाल.ज्लाटन इब्राहिमोवोइच, स्वीडन. और डेविड सिल्वा, स्पेन.

स्पेन ने दी इटली को मात, फिर बना चैम्पियन
यूरो कप फुटबॉल के फाइनल में रविवार को इटली को 4-0 से परास्त कर स्पेन ने लगातार दूसरी बार इस प्रतियोगिता में अपनी जीत दर्ज कराई है. इसके साथ ही स्पेन ने तीन बड़ी प्रतियोगिताओं के फाइनल लगातार जीतकर इतिहास रच दिया है. स्पेन ने लगातार दूसरी बार यूरो कप का खिताब जीता है. उसे अब तक तीन यूरो कप मिल चुके हैं. स्पेन ने सबसे पहले 1964 में सोवियत संघ को 2-1 से हराकर और फिर 2008 में जर्मनी को 1-0 से हराकर यूरो कप जीता था. स्पेन ने 2010 का फुटबॉल विश्व कप भी जीता था. कप्तान इकर कैसियस की टीम पहली ऐसी टीम बनी, जिसने 2008 के यूरो के बाद 2010 में विश्व कप और 2012 का यूरो कप भी जीता.

यूरो कप के फाइनल में स्पेन ने अपने आक्रामक इरादे मैच के 14वें मिनट में ही साफ कर दिए, जब सेस्क फैब्रिगास के डीप से दिए एक पास को डेविड सिल्वा ने अपने हेडर से गोल दागकर इटली पर 1-0 की बढ़त बना ली. फॉर्म से जूझ रहे सिल्वा का ये इस टूर्नामेंट का दूसरा गोल था. इससे पहले जो गोल सिल्वा ने किया था वो भी ग्रुप स्टेज में इटली की टीम के खिलाफ ही किया था. मैच के 40वे मिनट में स्पेन ने इटालियन  डिफेंस  की  कमर तोड़ दी.

जब शावी ने मिडफील्ड से इस टूर्नामेंट का सबसे बेहतरीन पास दिया और योर्दी एल्बा ने स्पेन के लिए अपने करियर का पहला गोल दाग दिया और दिला दी अपनी टीम को 2-0 की बढ़त.
पहले हॉफ के खत्म होने से पहले 2 गोल खा चुकी इटली की टीम के खिलाडिय़ों के कंधे और फैंस के चेहरे झुक गए थे. दूसरे हॉफ में भी इटली के खिलाडिय़ों पर पहले हॉफ में स्पेन की बढ़त का सदमा ऐसा हावी था, कि वो स्पेन के गोल को भेद नहीं पाए, पर स्पेन के गोल की भूख थमी नहीं.

मैच के 84वे मिनट में बदले में मैदान पर उतारे गए स्पेन के फॉवार्ड फर्ऩांडो टोरेस ने इटालियन गोलकीपर जिजि बूफोन को छकाते हुए तीसरा गोल दाग दिया. इस गोल के 4 मिनट के बाद 88वें मिनट स्पेन के एक और बदले सब्सटीच्यूट युआन माटा ने टॉरेस के पास पर मैच का चौथा गोल दाग दिया.

Related Posts: