170 करोड़ रूपये का प्रावधान,लक्ष्मीकांत शर्मा ने किया शुभारंभ

भोपाल,10 अप्रैल,तकनीकी शिक्षा मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा ने आज यहाँ अकादमिक-उद्योग संबंधों पर केन्द्रित मंथन 2012 का शुभारंभ किया. दो दिवसीय मंथन कार्यक्रम में शिक्षाविद्, उद्योगपति और इंजीनियरिंग विद्यार्थी भाग ले रहे हैं. इस अवसर पर तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री महेन्द्र हार्डिया उपस्थित थे.

शर्मा ने कहा कि मध्यप्रदेश में इंजीनियरिंग शिक्षा के परिदृश्य में गुणात्मक सुधार हो रहा है. प्रदेश में इस वर्ष प्रत्येक जिला मुख्यालय पर एक मॉडल आई.टी.आई. स्थापित किया जायेगा. इसके लिए 170 करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है. मॉडल आई.टी.आई. में उद्योगों की आवश्यकता के लिए कम से कम 6 ट्रेड संचालित किये जायेंगे. शर्मा ने कहा कि पीपीपी मोड में पॉलीटेक्निक भी स्थापित किये जा रहे हैंै. उन्होंने उद्योगपतियों से पॉलीटेक्निक संचालित करने का अनुरोध किया है. व्यावसायिक प्रशिक्षण की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश में 113 कौशल विकास केन्द्र प्रारंभ किये गये हैं. सभी विकास खण्डों में यह केन्द्र खोले जायेंगे.

शर्मा ने कहा कि जिलों में उपलब्ध संसाधन और उद्योगों की आवश्यकता के अनुरूप तकनीकी शिक्षा और प्रशिक्षण की व्यवस्था के उद्वेश्य से सभी जिलों की स्किल मैपिंग कराई जा रही है. कई स्थानों पर आई.टी.आई. का संचालन उद्योगों के हाथ में दिया गया है. इंजीनियरिंग शिक्षा में फैकल्टी की कमी को दूर करने के प्रयास किये जा रहे हैं.राज्य मंत्री महेन्द्र हार्डिया ने तकनीकी शिक्षा और प्रशिक्षण की उपलब्धि पर प्रकाश डाला.  अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के सचिव  के.पी. इशाक ने भी विचार व्यक्त किये. सिम्लेक्स लिमिटेड के चेयरमेन  बी.डी. मुन्द्रा ने भी सुझाव दिया.

राजीव गॉधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति पीयूष त्रिवेदी ने मंथन की परिकल्पना पर प्रकाश डाला. टी.सी.एस. और राजीव गॉधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के बीच तकनीकी आदान-प्रदान पर एक एम.ओ.यू. भी हस्ताक्षरित किया गया. तकनीकी शिक्षा मंत्री ने प्रदेश के प्रतिभावान इंजीनियर अरूण खन्ना को सम्मानित किया.

छात्रों से सीधा संवाद आज
मंथन के अन्तर्गत 11 अप्रैल को इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों से संवाद किया जायेगा. संवाद में उद्योगपति, शिक्षाविद् और फैकल्टी शामिल होंगें.

Related Posts: