डल झील में उठी ऊंची लहरें, हिमस्खलन से एक व्यक्ति की मौत

श्रीनगर, 20 मार्च. कश्मीर घाटी में रात भर चली आंधी के बाद मंगलवार को अव्यवस्था की स्थिति पैदा हो गई है. डल झील में ऊंची-ऊंची लहरें उठीं,  आंधी से हजारों घरों को नुकसान पहुंचा है, पेड़ उखड़ गए हैं, खिड़कियों के शीशे टूट गए हैं और सड़क मार्ग बाधित हो गए हैं.

वहीं, बांदीपोरा जिले में हुए हिमस्खलन में एक व्यक्ति की मौत हो गई है और दो अन्य लापता है. तेज आंधी के चलते पूरे कश्मीर में स्कूलों को बंद रखा गया है. प्रशासन ने अपनी सभी शाखाओं को किसी भी प्रकार के संकट से निपटने के लिए अधिकतम तैयारी कर लेने के लिए कहा है. ब्लॉक प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, आंधी के कारण सैंकड़ों घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं. कई स्थानों पर छतें उड़ गई हैं, पेड़ उखड़ गए हैं और इससे सड़क मार्ग बाधित हो गए हैं. घाटी में सैकड़ों पर्यटक फंसे हुए हैं. कई स्थानों पर घरों को नुकसान पहुंचा है.

उन्होंने कहा, हम वास्तविक नुकसान का अनुमान लगाने के लिए विभिन्न जिलों से जानकारियां इकट्ठी कर रहे हैं. घाटी में अब तक किसी भी स्थान से किसी के मारे जाने की खबर नहीं है. अधिकारी ने कहा कि किसी भी प्रकार के संकट से निपटने के लिए सभी जिला मुख्यालयों को आपातकालीन मुख्यालयों में तब्दील कर दिया गया है. श्रीनगर में डल झील के आसपास तेज हवाएं चलने से वहां कई हाउसबोटों को नुकसान पहुंचा है. स्थानीय हाउसबोट मालिकों के संघ के अध्यक्ष मुहम्मद अजीम तुमन ने बताया, आंधी के कारण कई हाउसबोटों को नुकसान पहुंचा है. कई जगह तो हाउसबोट मालिकों ने मुश्किल से अपनी जान बचाई है क्योंकि आंधी की चपेट में आकर उनकी बोटों को बहुत नुकसान पहुंचा है.

स्थानीय मौसम कार्यालय के एक अधिकारी ने बताया, सोमवार को घाटी के ऊपर असामान्य रूप से कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ था. आंधी इसी दबाव का परिणाम थी. मंगलवार दोपहर तक मौसम में सुधार होना चाहिए. लद्दाख क्षेत्र के लेह शहर में भी रातभर आंधी चलने की खबरें हैं. इससे वहां भी अफरा-तफरी का माहौल है. हिमस्खलन में मारे गए व्यक्ति और फंसे हुए दो व्यक्ति उत्तरी कश्मीर में सोमवार रात हुए हिमस्खलन में फंसे पांच लोगों में शामिल थे. पांच में से दो को बचा लिया गया है. ब्लॉक हेड ऑफिस में तैनात अधिकारी आमिर अली ने बताया, बांदीपोरा जिले की गुरेज तहसील के बदवान गांव में सोमवार रात हुए हिमस्खलन में पांच लोग फंस गए थे. राहत एवं बचाव कार्य त्वरित रूप से शुरू कर दिया गया, जिसमें तीन लोगों को मलबे से जीवित निकाल लिया गया. जिनमें से एक घायल की बाद में मौत हो गई. दो लोग अब भी मलबे में दबे हुए हैं, उनकी तलाश जारी है.  पिछले महीने गुरेज में ही हुए एक और हिमस्खलन हादसे में 18 सैन्य जवान मारे गए थे.

एमपी में पारे ने लगाई छलांग

गर्मी ने अपने तेवर दिखाना शुरू कर दिये है.  इंदौर में पारा 37 डिग्री तक पहुंच गया है जो कि सामान्य से 3 डिग्री अधिक है. वहीं न्यूनतम तापमान भी 18 डिग्री तक पहुंच गया है जो कि सामान्य से 2 डिग्री अधिक है. भोपाल में 37.4 डिग्री, जबलपुर में 36.3 डिग्री और ग्वालियर में सबसे ज्यादा 38.7 डिग्री पर पहुंच गया है. मौसम विभाग के अनुसार आने वाले दिनों में तापमान और बढ़ेगा.

दिल्ली में चलीं धूल भरी हवाएं

नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मौसम में भारी बदलाव आया है. पिछले दो दिनों में जहा अधिकतम तापमान सोमवार एवं मंगलवार  को 37 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से पांच डिग्री अधिक है. मौसम विभाग ने यहां बताया कि यहां धूल भरी हवाएं चलीं.

Related Posts: