गिरे 17 विकेट, वेस्ट इंडीज को दूसरी पारी में 116 रन की बढ़त

नई दिल्ली,7 नवंबर. फिरकी गेंदबाज प्रज्ञान ओझा की अगुवाई में फिरोज शाह कोटला में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच का दूसरा दिन पूरी तरह से गेंदबाजों के नाम रहा और दिनभर के खेल में दोनों टीमों के कुल 17 विकेट गिरे. दिन का खेल खत्म होने के समय वेस्टइंडीज ने टीम इंडिया पर कुल 116 रनों का बढ़त बना ली है.

शिवनारायन चंद्रपाल (118 रन, 196 गेंद, 7 चौका, 2 छक्का) के शतक की बदौलत विंडीज बड़े स्कोर की ओर बढ़ रहा था लेकिन ओझा ने करियर की बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए मेहमान टीम को दूसरे दिन 304 रनों पर समेट दिया. इसके बाद वीरेंद्र सहवाग (55) और राहुल द्रविड़ (54) की अर्धशतकों के बाद मध्यक्रम की निराशाजनक प्रदर्शन के कारण भारतीय टीम महज 209 रन पर आउट हो गई. ओझा ने पहली पारी में कुल छह विकेट झटके और साथ ही टेस्ट क्रिकेट में पहली बार पांच से ज्यादा विकेट अपने नाम किया. पहला टेस्ट मैच खेल रहे आर आश्विन ने तीन विकेट झटके.  गेंदबाजों की बदौलत पहली पारी में मिली 95 रनों की बढ़त के साथ दूसरी पारी की शुरुआत करने उतरे विंडीज को दूसरे ओवर की चौथी गेंद पर तगड़ा झटका लगा जब अश्विन ने काइरेन पावेल को खाता खोले बगैर ही गंभीर के हाथों कैच आउट कराकर पवेलियन वापस भेज दिया. इस समय विंडीज का स्कोर महज एक रन था. इसके बाद पिछली पारी में अर्धशतक जमाने वाले क्रेग ब्राथवेट (2) और किर्क एडवर्ड्स (नाबाद 15) संभल कर खेलते हुए दिन का खेल खत्म होने तक और कोई झटका नहीं लगने देना चाहते थे लेकिन ओझा ने ब्राथवेट को एलबीडब्ल्यू कर मेजबान टीम को दूसरी बड़ी सफलता दिला दी. स्टंप तक विंडीज ने दो विकेट खोकर 21 रन बना लिए हैं.

किर्क एडवर्ड्स के साथ नाइटवाचमैन फिडेल एडवर्ड्स (0) के साथ क्रीज पर डटे हुए हैं. ओझा की अगुवाई में गेंदबाजों के बाद कमाल दिखाने की अगली बारी भारतीय बल्लेबाजों की थी. और ओपनरों गौतम गंभीर और सहवाग ताबड़तोड़ बल्लेबाजी कर टीम को शानदार शुरुआत दिलाकर प्रशंसकों को रोमांचित भी किया. दोनों 12.3 ओवर में 89 रन जोड़ते हुए अपने तेवर दिखा दिए. लेकिन इसी बीच सहवाग का स्ट्रेट ड्राइव शाट गेंदबाज डेरेन सैमी के हाथों से टकराते हुए विकेट पर जा टकराई जिससे क्रीज छोड़ चुके गंभीर रन आउट हो गए. गंभीर ने 41 गेंदों में सात चौके के साथ 41 रन बनाए. सहवाग नए बल्लेबाज द्रविड़ के साथ पारी को आगे बढ़ाने में असफल रहे और बिशू की गेंद पर विकेटकीपर कार्लटन बॉ के हाथों स्टंप आउट हो गए. उन्होंने 46 गेंदों में नौ चौके की मदद से 55 रनों की अर्धशतकीय पारी खेली. भारतीय पारी में स्कोर इस समय 100 रन पर दो विकेट था. लेकिन गेंदबाजों की बेहतरीन गेंदबाजी के आगे अगले आठ विकेट महज 109 रन जोड़कर आउट हो गए. एक छोर पर टिके द्रविड़ का लंबा साथ सचिन तेंदुलकर (7), वीवीएस लक्ष्मण (1), युवराज सिंह (23), कप्तान धौनी (0) और आर अश्विन (0) भी नहीं दे सके. विपक्षी कप्तान सैमी ने पारी की 33वें ओवर में युवराज और कप्तान धौनी को आउट कर भारतीय टीम पर संकट ला दिया.

भारत की स्थिति और भी खराब होती अगर पुछल्ले बल्लेबाज ईशांत शर्मा ने द्रविड़ के साथ आठवें विकेट के लिए 49 रनों की उपयोगी साझेदारी नहीं की होती. सैमुअल्स की गेंद पर विकेट के पीछे कैच आउट होने से पूर्व ईशांत ने 41 गेंदों में 17 रन बना बनाए. द्रविड़ नौंवे बल्लेबाज के रूप में रवि रामपाल की गेंद पर आउट हुए. इसके बाद टेस्ट करियर का आगाज करने वाले अश्विन के बाद उमेश यादव भी अपनी पहली पारी में खाता नहीं खोल सके. विंडीज की तरफ से कप्तान सैमी ने तीन, जबकि रामपाल व देवेंद्र बिशू ने दो-दो विकेट चटकाए. इससे पहले दूसरे दिन भारतीय गेंदबाजों ने कैरेबियाई बल्लेबाजों को कोई मौका नहीं दिया और पांच विकेट पर 256 रनों से आगे खेलने उतरे मेहमानों को 302 रन पर समेट दिया. दूसरे दिन की शुरुआत में अभी आठ ओवर ही फेंके गए थे कि ओझा ने विंडीज को दूसरे दिन का पहला झटका बॉ के रूप में दिया. बॉ 27 रन बनाकर एलबीडब्ल्यू हुए. ओझा ने अपने अगले ओवर में विपक्षी कप्तान डेरेन सैमी (5) को भी एलबीडब्ल्यू कर चलता किया. विकेटों के पतन का सिलसिला शुरू हो गया और अब ईशांत शर्मा ने चंद्रपाल को एलबीडब्ल्यू कर भारत को बड़ी सफलता दिलाई. इसके बाद रवि रामपाल (12) को अश्विन ने अपनी गेंद पर एलबीडब्ल्यू किया. ओझा ने फिडेल एडवर्ड्स (10) को सहवाग के हाथों कैच आउट कराकर विंडीज की पारी का समापन किया.

Related Posts: