हिन्दी विश्वविद्यालय से प्रदेश का गौरव बढ़ेगा

भोपाल,21 फरवरी,नभासं. राष्ट्रभाषा हिन्दी का गौरव बढ़ाने के लिए उच्च शिक्षा मंत्री  लक्ष्मीकांत शर्मा को राष्ट्र गौरव सम्मान से विभूषित किया गया. अखिल भारतीय भाषा साहित्य सम्मेलन, भोपाल द्वारा एक गरिमामय समारोह में आज यहां  शर्मा को शाल, श्रीफल और प्रशस्ति-पत्र भेंट किया गया.

शर्मा ने कहा कि प्रदेश में हिन्दी विश्वविद्यालय का कार्य अप्रैल से प्रारंभ हो जायेगा. मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन से हिन्दी विश्वविद्यालय की स्थापना का कार्य संभव हुआ है. उन्होंने जापान, चीन एवं अन्य देशों की चर्चा करते हुए कहा कि इन देशों ने मातृभाषा को आगे बढ़ाया और उन्नति की. अन्य राज्यों में मध्यप्रदेश की पहचान हिन्दी के कारण भी है. यहाँ अधिकतर कार्य हिन्दी में किया जाता है. कला, वाणिज्य, चिकित्सा, प्रबन्धन और अभियांत्रिकी की हिन्दी माध्यम से शिक्षा देने वाला अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय देश का पहला विश्वविद्यालय होगा. अखिल भारतीय भाषा साहित्य सम्मेलन, भोपाल द्वारा श्रीमती सुमन चतुर्वेदी स्मृति राष्ट्रीय पुरस्कार श्रीमती कुलतार कौर कक्कर एवं डॉ. चन्द्रप्रकाश वर्मा स्मृति राष्ट्रीय पुरस्कार, भोपाल के  यतीन्द्रनाथ राही और मुम्बई के डॉ. कपिल कुमार को प्रदान किया गया. श्रेष्ठ साधना सम्मान श्रीमती वृन्दावन मेवार एवं  धीरेन्द्र गहलोत धीर को दिया गया. संस्था के अध्यक्ष श्री सतीश चतुर्वेदी का 75 वर्ष पूर्ण होने पर अभिनन्दन किया गया.समारोह में रोटरी क्लब के अध्यक्ष  देवीशरण,  कैलाश चन्द्र पंत,  बटुक चतुर्वेदी, सुरेश तांतेड़,  राजुरकर राज, डॉ. राधावल्लभ आचार्य,  कमलकान्त सक्सेना, अन्य राज्यों से आये साहित्यकार और विभिन्न साहित्यिक और सांस्कृतिक संस्थाओं के पदाधिकारी उपस्थित थे.

Related Posts: