अपने फिल्मी कैरियर के बारे में अंकिता ने बताया कि थिएटर से उनका पुराना लगाव था और इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के साथ उन्होंने थिएटर और विज्ञापन करने शुरु कर दिए. मुंबई में वह थिएटर ग्रुप दर्पण से जुड़ी रहीं. वहीं एक दिन उन्होंने सब कुछ छोड़कर फिल्मी दुनिया में रम जाने का फैसला किया जिसको लेकर काफी दिनों तक घर में कोहराम रहा और मां बाप ने काफी समय तक बात भी नहीं की.

इंजीनियरिंग की पढ़ाई और एक शानदार कंपनी की नौकरी की पेशकश को ठुकराकर फिल्मों में आई नई अभिनेत्री अंकिता श्रीवास्तव को भरोसा है कि फिल्मों में वह जल्द ही वह मुकाम हासिल करेंगी कि उनके माता पिता को उनके फैसले पर गर्व होगा. उनकी फिल्म प्रणाम वालेकुम जल्द रिलीज होने वाली है. अंकिता ने बताया मुझे उम्मीद है कि प्रणाम वालेकुम फिल्म मुझे वह मुकाम दिलाएगी, जिसे हासिल करने के लिए मैंने मां बाप के एतराज के बावजूद इंजीनियरिंग छोड़कर फिल्मी कैरियर को चुना था. इस फिल्म में मेरी मुख्य भूमिका जमुना की है. फिल्म की कहानी के बारे में उन्होंने कहा फिल्म में मेरी मुख्य भूमिका हिन्दू लड़की जमुना की है जो एकमुस्लिम लड़के से प्यार करती है और हिन्दू मुस्लिम विवाद बढऩे के बाद हिन्दू और मुसलमानों के गांव अलग होने के कारण दोनों की शादी टूट जाती है. अंत में दोनों ही गांव के लोग मिलकर फिर से दोनों की शादी करवाते हैं.

इसके अलावा अंकिता की एक और फिल्म लाइफ इज गुड भी बनकर तैयार है जो बाप बेटी के रिश्ते की मार्मिक कहानी है. इस फिल्म में अंकिता के पिता की भूमिका में चर्चित अभिनेता जैकी श्राफ हैं. इस फिल्म के जुलाई अगस्त के आसपास रिलीज होने की संभावना है. इन सबके अलावा एनएफडीसी की एक फिल्म गंगूबाई भी रिलीज होने के लिए तैयार है जिसकी निर्देशिका प्रिया कृष्ण स्वामी हैं. इस फिल्म में अंकिता ने बालीवुड की एक संघर्षरत अभिनेत्री की भूमिका निभाई है जो सट्टेबाजी की आदत के कारण एक गहरे दुष्चक्र में फंसती चली जाती है. इस फिल्म में उनके सह कलाकार पूरब कोहली हैं.

अपने फिल्मी कैरियर के बारे में अंकिता ने बताया कि थिएटर से उनका पुराना लगाव था और इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के साथ उन्होंने थिएटर और विज्ञापन करने शुरु कर दिए. मुंबई में वह थिएटर ग्रुप दर्पण से जुड़ी रहीं. वहीं एक दिन उन्होंने सब कुछ छोड़कर फिल्मी दुनिया में रम जाने का फैसला किया जिसको लेकर काफी दिनों तक घर में कोहराम रहा और मां बाप ने काफी समय तक बात भी नहीं की. उन्होंने कहा कि मां बाप को मेरे फैसले का पता तब लगा जब प्रमुख साफ्टवेयर कंपनी इंफोसिस की ओर से नौकरी का प्रस्ताव आया, जिसे मैंने जानबूझकर छोड़ दिया. कंपनी ने क्लास में अव्वल होने के कारण उन्हें नौकरी की पेशकश की थी. इसी दौरान उनके माता पिता को पता चला कि वह एक्टिंग को लेकर कितनी गंभीर है. उन्होंने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत फिल्म मोटर मैकेनिक फुलवा की कमाल कहानी से की थी जिसके निर्देशक कंचन घोष थे. इस फिल्म का प्रीमियर स्टार उत्सव पर हुआ था और अभी यह फिल्म अंतरराष्ट्रीय फिल्मों महोत्सवों में दिखाई जा रही है.

अंकिता ने कहा, मुझे फिल्मों में अभिनय करने का एक जुनून सा है और मुझे पूरा विश्वास है कि जल्द ही मैं फिल्मों में वह मुकाम हासिल कर लूंगी, जिससे मेरे परिवार को मुझपर गर्व होगा और इंजीनियरिंग को छोड़कर अभिनय को अपनाने के अपने फैसले को मैं सारी दुनिया के सामने सही साबित कर सकूंगी.

Related Posts: