यूपीए सरकार पर भाजपा ने साधा निशाना

भाजपा राष्ट्रीय परिषद की बैठक में राजनीतिक प्रस्ताव पेश

सूरजकुंड (हरियाणा), 28 सितंबर. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार ने सत्ता में बने रहने का अधिकार खो दिया है. पार्टी ने यह भी कहा कि केवल वही देश को सही दिशा दे सकती हे. भाजपा की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में राजनीतिक प्रस्ताव पेश करते हुए पार्टी नेता मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि देश दोराहे पर है. कांग्रेस के नेतृत्व वाले संप्रग ने सत्ता में बने रहने का अधिकार खो दिया है.

भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी ने कहा कि यह देश की राजनीति को नई दिशा देने का वक्त है. जोशी ने कोयला ब्लॉक आवंटन में कथित अनियमितता के लिए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को जिम्मेदार ठहराते हुए उनके इस्तीफे की मांग की. वर्ष 2010 के राष्ट्रमंडल खेल आयोजन में धांधली और 2जी स्पेक्ट्रम आवंटन में घोटाला का जिक्र करते हुए जोशी ने कहा कि भ्रष्टाचार के मुद्दों पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की चुप्पी आश्चर्यजनक है. राष्ट्रीय परिषद की बैठक में पेश भाजपा के प्रस्ताव में कहा गया है कि पार्टी देश के गौरव को फिर से स्थापित करेगी और देश जिस पीड़ा से गुजर रहा है, उससे उसे बाहर निकालेगी. प्रस्ताव में यह भी कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में हाल के दिनों में सरपंचों की हत्या से जाहिर है कि राज्य में आतंकवाद एक बार फिर सिर उठा रहा है. प्रस्ताव में असम में बांग्लादेशी नागरिकों की घुसपैठ, मुम्बई में अमर जवान ज्योति पर हमला तथा उत्तर प्रदेश में पिछले छह में भड़के साम्प्रदायिक दंगों पर भी चिंता जताई गई है.

गडकरी के दोबारा बीजेपी अध्यक्ष बनने का रास्ता साफ

नितिन गडकरी को दूसरे कार्यकाल के लिए भाजपा का अध्यक्ष चुने जाने को लेकर पार्टी के संविधान में संशोधन को राष्ट्रीय परिषद ने शुक्रवार को मंजूरी दे दी. इससे गडकरी के दोबारा अध्यक्ष बनने का रास्ता साफ हो गया. जानकारी के अनुसार, सूरजकुंड में चल रहे भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में में आज पार्टी का संविधान संशोधन प्रस्ताव पारित किया गया, जिसमें गडकरी दूसरे कार्यकाल के लिए अध्यक्ष चुने जाने पर मंजूरी दे दी गई.

गौर हो कि बीजेपी की राष्ट्रीय परिषद का आज आखिरी दिन है. गडकरी को लगातार दूसरे कार्यकाल का विस्तार देने से सम्बंधित संशोधन को यहां राष्ट्रीय परिषद की बैठक में मंजूरी दे दी. अब तक अध्यक्ष केवल तीन वर्षो के कार्यकाल के लिए अपने पद पर रह सकता था. भाजपा के संविधान की धारा 21 के अनुसार, कोई भी योग्य व्यक्ति लगातार दो कार्यकाल के लिए अध्यक्ष के पद पर हो सकता है और प्रत्येक कार्यकाल तीन-तीन वर्षो का होगा. बैठक में यह प्रस्ताव भाजपा के पूर्व अध्यक्ष वेंकैया नायडू की ओर से लाया गया. उन्होंने हालांकि यह भी स्पष्ट किया कि किसी भी अध्यक्ष को स्वत: दूसरे कार्यकाल का विस्तार मिल जाएगा. यह सिर्फ लगातार दूसरे कार्यकाल के विस्तार का प्रावधान करता है. भाजपा के एक पदाधिकारी ने बताया कि इस संशोधन को इस साल मई में मुम्बई में पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अंगीकार किया गया था, जिसे राष्ट्रीय परिषद की बैठक में पुष्ट किया गया. इस संशोधन से भाजपा के मौजूदा अध्यक्ष नितिन गडकरी को लाभ मिल सकता है, जिनका कार्यकाल दिसम्बर में समाप्त हो रहा है.

2014 से पहले गिर सकती है यूपीए सरकार: आडवाणी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार संभवत: अपना कार्यकाल पूरा न कर पाए. भाजपा की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए आडवाणी ने कहा कि सरकार में भ्रष्टाचार के बढ़ते मामलों के बावजूद 10-15 दिन पहले उनकी सोच अलग थी. लेकिन अब सरकार बीमार हो चुकी है. यह अब आईसीयू (सघन चिकित्सा कक्ष) में है. आडवाणी ने कहा कि अचानक, यहां तक कि कांग्रेस के सहयोगियों को भी लगने लगा है कि यदि सरकार गिर जाती है तो यह अच्छा ही होगा. पूर्व उप प्रधानमंत्री ने कहा कि मुझे बहुत हद तक लगता है कि यह सरकार वर्ष 2014 तक नहीं चल जाएगी.

यह सम्भव है कि इसकी जीवन रक्षक प्रणाली अलग हो जाए और वेंटिलेटर न रहे. आडवाणी ने कहा कि उन्होंने भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी से कहा कि पार्टी को अगले लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के नामों को अंतिम रूप देना शुरू कर देना चाहिए. वरिष्ठ भाजपा नेता कि मैंने वर्ष 1947 में देश के आजाद होने के बाद अब तक सभी सरकारों को करीब से देखा है, पहले एक पत्रकार के रूप में, फिर एक पार्टी कार्यकर्ता और बाद में एक सांसद के रूप में. लेकिन इस तरह की सरकार कभी नहीं देखी.

उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार का नेतृत्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया के साथ है. प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अपने अधिकार सोनिया को स्थानांतरित कर दिए हैं. आडवाणी ने कहा कि वर्ष 2009 में मैंने मनमोहन सिंह को कमजोर प्रधानमंत्री बताया था. तब कुछ लोगों ने मेरे बयान को अनुचित बताया था, लेकिन आज मुझे यह कहते हुए दुख हो रहा है कि मेरी बात सही साबित हुई. मैंने जो कुछ भी कहा, लोग आज उससे सहमति जता रहे हैं.

मनमोहन-सोनिया पर मोदी ने फिर दागे सवाल

भाजपा की राष्ट्रीय परिषद की बैठक के दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से सवाल किया कि अमेरिका में चुनावों के दौरान ही परमाणु समझौता और एफडीआई जैसे फैसले क्यों होते हैं। उन्होंने अमेरिका के चुनावों और इन फैसलों के बीच कथित संबंधों पर इन दोनों से जवाब देने को कहा। बैठक के बाद यहां आयोजित रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने मल्टी ब्रांड रिटेल सेक्टर में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के सरकार के निर्णय पर सवाल किया कि आखिर सोनिया गांधी के अमेरिका से लौटने के अगले दिन ही ऐसा क्यों किया गया। क्या सोनिया जी की अमेरिका यात्रा का एफडीआई निर्णय पर कोई प्रभाव था? सोनिया के साथ ही प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए मोदी ने अपने खास अंदाज़ में कहा, ‘मैं प्रधानमंत्री से सवाल करना चाहता हूं कि जब भी अमेरिका में चुनाव होते हैं तो वह सक्रिय क्यों हो जाते हैं? इसमें आखिर क्या रिश्ता है?

मोदी ने कहा, क्वश्रीमान प्रधानमंत्री जी! देश आपसे जानना चाहता है कि पिछले आठ साल में आप दो बार ‘सिंघम’ क्यों बने, एक बार अमेरिका से परमाणु समझौता के समय और दूसरी बार एफडीआई के समय? गुजरात के मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि इन दोनों ही मामलों में विदेशियों को लाभ मिला, ‘आप भारत के लिए सिंघम क्यों नहीं बने? कोल ब्लॉक आवंटन मामले में भी उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष को लपेटने का प्रयास करते हुए कहा कि एक विदेशी पत्रिका में कहा गया है कि सोनिया गांधी के सलाहकार अहमद पटेल की सिफारिशों पर वह आवंटन किए गए थे। उन्होंने सरकार से इन आरोपों के जवाब की मांग की।

Related Posts:

पंचायत से राजधानी तक चलेगा सुशासन अभियान : अनन्त
टीएलसी प्रस्तुत करने जा रहा है व्हॉट नॉट टु वेअर-इंडिया
डायल 100 से नागरिकों के बीच बढ़ेेगा विश्वास
बीजेपी के मंत्री बोले गीता ज्ञान मेरे पल्ले नहीं पड़ता
रतलाम झाबुआ संसदीय सीट जीतने से उत्साहित है कांग्रेस
गुलबर्ग सोसायटी नरसंहार - अदालत ने 24 को ठहराया दोषी, 36 दोषमुक्त, सजा पर फैसला ...