नई दिल्ली, 31 अक्टूबर. भारतीय ओलंपिक संघ ने 27 जुलाई से 12 अगस्त तक चलने वाले 2012 लंदन ओलंपिक खेलों के मद्देनजर दल की तैयारियों के लिए अनुभवी खिलाडिय़ों को शामिल करने का फैसला किया है. अनुभवी खेल प्रशासक केपी सिंह देव को ओलंपिक खेलों की निगरानी समिति का संयोजक चुना गया है.

आईओए ने चार सदस्यीय अधिकार प्राप्त समिति भी गठित की जिसकी अध्यक्षता अखिल भारतीय टेनिस संघ के महासचिव अनिल खन्ना करेंगे जो ओलंपिक की प्रबंधन समिति प्रायोजन और टीवी अधिकार, की देखरेख करेगी. आईओए के कार्यवाहक अध्यक्ष प्रोफेसर विजय कुमार मल्होत्रा ने कहा कि पंचाट और आचार आयोग के साथ ये समितियां गठित कर हमने आईओए को और पारदर्शी बनाने की अपनी प्रतिबद्धता को पूरा किया है. उन्होंने कहा अब ज्यादा खिलाडिय़ों को अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए टीमों को तैयार करने और उनकी ट्रेनिंग की जिम्मेदारी वहन करनी होगी. देव आईओए के खेल विकास आयोग के अध्यक्ष भी हैं. वह 1988 ओलंपिक में भारतीय दल के दल प्रमुख थे, इसके अलावा वह भारतीय रोइंग महासंघ के अध्यक्ष भी हैं. निगरानी समिति के अन्य सदस्य मल्होत्रा अध्यक्ष, रणधीर सिंह उपाध्यक्ष और हर क्वालीफाइंग महासंघ के अध्यक्ष या महासचिव तथा प्रत्येक क्वालीफांइग महासंघ से एक खिलाड़ी बतौर एथलीट प्रतिनिधि होगा. मल्होत्रा ने कहा कि आईओए लंदन में दल भेजने के लिए अपने संसाधन जुटाने के लिए सारे प्रयास करेगा. उन्होंने कहा हमने प्रबंधन समिति गठित की है जिसमें जानकार लोग और इसके विशेषज्ञ शामिल हैं. ताकि हमें सरकारी अनुदान पर ही निर्भर नहीं रहना पड़े.

लंदन ओलंपिक खेलों की प्रबंधन समिति प्रायोजन और टीवी अधिकार में अनिल खन्ना चेयरमैन, रनिनदर सिंह एनआरएआई अध्यक्ष, एस रघुनाथन कयाकिंग एवं कैनोइंग संघ के अध्यक्ष और एन रामचंद्रन आईओए कोषाध्यक्ष शामिल हैं. आईओए प्रमुख ने कहा कि तीन सदस्यीय आचार आयोग का गठन आईओसी चार्टर के अंतर्गत किया गया है. आचार आयोग समिति में न्यायाधीश उमेश बनर्जी सेवानिवृत्त उच्चतम न्यायालय, न्यायाधीश आरएल खुराना सेवानिवृत्त उच्च न्यायालय, और न्यायाधीश एमएस सिद्दीकी सेवानिवृत्त उच्च न्यायालय शामिल हैं.

Related Posts: