भोपाल, 23 नवंबर. मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के अरेरा कालोनी स्थित पार्क में एक नवजात बच्ची की लाश कचरे के ढेर पर पड़ी मिली. शहर महिला कांग्रेस द्वारा इसके विरोध स्वरूप प्रदेश कांग्रेस कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया गया.

अध्यक्ष शहर महिला कांग्रेस प्रतिभा विक्टर ने कहा कि एक नवजात बेटी की लाश कचरे के ढेर पर पड़ी रही और न तो प्रदेश के मुुखिया को सयंम था और नहीं बेटी बचाओ अभियान के ढिंढौरा पीटने वाले अन्य भाजपा नेताओं के पास उसे देखने का समय था प्रदेश सरकार द्वारा विज्ञापन के माध्यम से करोड़ों रुपये खर्च कर राज्य शासन बेटी बचाव अभियान चला रही है जबकि बेटिया कचरे के ढेर पर पड़ी मिल रही है और लावारिस ही विदा हो रही है.

प्रदर्शन के बाद महिला कांग्रेस द्वारा वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को आरोपियों के विरुद्घ कठोर कार्यवाही करने हेतु ज्ञापन दिया गया. ज्ञापन भोपाल शहर में महिलाओं एवं बच्चों पर बढ़ते अत्याचार, उत्पीडऩ व हिंसक घटनाओं की रोकथाम एवं उनकी सुरक्षा के लिए आवश्यक प्रशासनिक कसावट की मांग की गई है. प्रदर्शन के समय डा. शशि राजपूत, शबाना सोहेल, पूर्णिमा सिंह, रजनी रावते, करुणा शर्मा, बबीता पिल्लई, राखी परमार, राखी शर्मा,  इंदुताई पाटिल, इंदु अवस्थी, लक्ष्मी सेनी, सीमा पवार, लता देवरे, शायना हसन, राजश्री लोखण्डे, रत्ना पाण्डे, ममता सेंगर, भारती सिंह सहित सैकड़ों महिलाएं शामिल थी.

Related Posts: