भोपाल, 27 अप्रैल.गांधीवादी सामाजिक कार्यकर्ता डा. महेश यादव देश में बढ़ रही नक्सलवादी माओवादी हिंसा से चिंतित होकर नक्सलवादियों के नाम अपने खून से शांति का पैगाम लिखते हुए हिंसा त्यागने की अपील करते हुए लाल सलाम किया तथा अतिशीघ्र छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के कलेक्टर एलेक्स पाल मेनन की बिना शर्त रिहाई की अपील की है.

डा. यादव ने टाप एण्ड टाउन, न्यू मार्केट भोपाल में अपने साथी अजय जैन, गुलफाम खान, अशोक कुमार सहित अनेक लोगों की उपस्थिति में अपने खून से 5 फिट लंबी अपील लिखकर नक्सलवादियो से हिंसा का मार्ग त्यागकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सत्य अहिंसा और शांति के मार्ग पर चलकर आंदोलन करने का आग्रह किया है. उन्होंने रक्त अपील में लिखा है कि इतिहास गवाह है कि जो भी व्यक्ति संगठन, समुदाय व देश हिंसा के मार्ग पर  चला है उसका पतन अवश्य ही हुआ है. भारत महात्मा बुध्द, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, नेता जी सुभाष चंद्र बोस, शहीद भगत सिंह, शहीद विरसा मुंडा, नारायण सिंह, भीमा नायक जैसे अनगिनत राष्ट्र भक्तों की पावन भूमि है और हम इस भूमि पर अपने क्रांतिकारियों के आर्दशों को त्यागकर माओ का झंडा लेकर हिंसा का तांडव करें तो यह उचित नहीं हैं.

उन्होंने कहा है कि नक्सलवाद और माओवाद की राह पर चल रहे गुमराह नौजवानों को चाहिए कि वह हिंसा का मार्ग त्यागकर राष्ट्रीय की मुख्य धारा में जुड़ें और भगवान महावीर के जियो और जीने दो के सिद्घांत पर अंग्रेषित हों. उल्लेखनीय है कि डा. महेश यादव 6 अक्टूबर 1994 से देश और दुनिया को बचाने के लिए तथा देश की अखण्डता के लिए अपने लहु से आंदोलन चलाकर जन जागरण कर रहे हैं. डा. यादव ने देश और विश्व की विभिन्न समस्याओं पर ध्यान आकर्षत कराने हेतु अब तक 7000 से अधिक अपील लेटर अपने रक्त से लिखे हैं तथा 700 से ज्यादा चित्र क्रांतिकारी, महापुरुष और राजनेताओं के बनाएं है तथा मानव प्राणों की रक्षा हेतु अभी तक 300 उस प्रति बाटल अभी तक 38 बार रक्तदान भी किया है तथा डा. यादव का यह प्रयास राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आज भी जारी है.

Related Posts: