राजगढ़ 17 नवम्बर, नससे. जिला चिकित्सालय राजगढ़ में परिवार नियोजन कार्यक्रम अंतर्गत आयोजित नसबंदी शिविर के दोरान मरीजो की जिन्दगी से खिलवाड़ और शासकीय नुमांदो की घोर लापरवाही का कृत्य उस समय सामने आया, जब शिविर मे नसबंदी के लिये आई महिलाओं को नसबंदी के पूर्व लगाऐ जाने वाले इंजेक्शन की सीरिंज और एक सुई से तीन से अधिक महिलाओं को बिना सुई बदले इंजेक्शन लगाया गया.

जनसंख्या स्थिर करने तथा इस वर्ष के निर्धारित नसबंदी ऑपरेशन का लक्ष्य हांसिल करने के लिए बुधवार को जिला चिकित्सालय में आयोजित नसबंदी शिविर में अव्यवस्थाओं का आलम यह था कि वहां कार्यरत एक स्वास्थय कार्यकर्ता ने लोगो की जान से खिलवाड करते हुये आपरेशन के पूर्व लगाये जाने वाले (जायलोक्यून) इंजेक्शन को सिरिंज से बगैर निडिल बदले कई महिलाओं को लगाया. इस बात का स्पष्ट प्रमाण ”नवभारत” के पास वीडीयों फुटेज के रूप में सुरक्षित है. ”नवभारत” द्वारा मामले को उजागर करने पर जब इसकी भनक हितग्राहियों औरउनके परिजनो को लगी तो वे भी इस बात पर भड़क उठे और शिविर मे हंगामा करने लगे. इस दौरान अस्पताल में कोई भी जिम्मेदार अधिकारी और चिकित्सक मौजूद नही था. शिविर मे हितग्राहियों के बैठने के लिये भी पर्याप्त व्यस्थायें नही थी. डॉ. ए.के. दिक्षित सीएमएचओ, राजगढ़ का कहना था कि मैं आज शासकीय कार्य से बाहर था, व्यवस्थाओं में कहॉ चूक हो रही है इसे सुधारा जाएगा.

Related Posts: