• संशोधन विधेयक पारित

भोपाल, 30 मार्च.  विधानसभा में आज पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री गोपाल भार्गव द्वारा प्रस्तुत विधानसभाध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं नेता प्रतिपक्ष तथा सदस्यों के वेतन-भत्ता व पेंशन संबंधी संशोधन विधेयकों को सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया. सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री कन्हैयालाल अग्रवाल द्वारा प्रस्तुत मध्यप्रदेश मंत्री (वेतन तथा भत्ता) संशोधन विधेयक-2012 को भी सदन में पुर:स्थापित किये जाने के बाद सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया.

मध्यप्रदेश मंत्री (वेतन तथा भत्ता) संशोधन विधेयक-2012 में मुख्यमंत्री, मंत्री एवं राज्य मंत्री तथा संसदीय सचिव को मिलने वाले सत्कार, निर्वाचन क्षेत्र तथा दैनिक भत्तों में वृद्घि की गई है. अभी मुख्यमंत्री, मंत्री, राज्य मंत्री, उप मंत्री, संसदीय सचिव को प्रतिमाह 18 हजार रुपये सत्कार भत्ता दिया जाता था. संशोधन विधेयक में मुख्यमंत्री के लिये इसे बढ़ाकर 50 हजार रुपये, मंत्री के लिये 30 हजार रुपये तथा राज्य मंत्री, उप मंत्री, संसदीय सचिव के लिये 25 हजार रुपये प्रतिमाह किये जाने का प्रावधान किया गया है.

इसी तरह उन्हें अभी 17 हजार रुपये प्रतिमाह निर्वाचन क्षेत्र भत्ता मिल रहा था, जिसे बढ़ाकर मुख्यमंत्री और मंत्री को 27 हजार रुपये तथा राज्य मंत्री, उप मंत्री व संसदीय सचिव को 23 हजार रुपये प्रतिमाह किया गया है. मुख्यमंत्री, मंत्री, राज्य मंत्री, उप मंत्री व संसदीय सचिवों को उनकी पदावधि के दौरान राज्य के भीतर 750 रुपये तथा राज्य के बाहर 900 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से मिलने वाले दैनिक भत्ते को राज्य के भीतर बढ़ाकर 1200 रुपये तथा राज्य के बाहर 1500 रुपये प्रतिदिन किया गया है. मध्यप्रदेश विधानसभा अध्यक्ष तथा उपाध्यक्ष एवं नेता प्रतिपक्ष वेतन तथा भत्ता विधि (संशोधन) विधेयक-2012 के तहत अब विधानसभा अध्यक्ष को 30 हजार रुपये और उपाध्यक्ष को 25 हजार रुपये प्रतिमाह सत्कार भत्ता दिया जायेगा. अभी अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष को 18 हजार रुपये मासिक सत्कार भत्ता मिल रहा था. नेता प्रतिपक्ष को मिलने वाला मासिक सत्कार भत्ता 18 हजार रुपये को भी बढ़ाकर 30 हजार रुपये किया गया है.

विधानसभा अध्यक्ष, उपाध्यक्ष ओर नेता प्रतिपक्ष को प्रतिमाह मिलने वाले निर्वाचन क्षेत्र भत्ता 17 हजार रुपये को बढ़ाकर अध्यक्ष व नेता प्रतिपक्ष के लिये 27-27 हजार रुपये तथा उपाध्यक्ष के लिये 23 हजार रुपये प्रतिमाह किया गया है. विधानसभाध्यक्ष, उपाध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष को मिलने वाली प्रतिदिन दैनिक भत्ते की राशि 800 रुपये को बढ़ाकर 1200 रुपये की गई है. मध्यप्रदेश विधानसभा सदस्य वेतन, भत्ता तथा पेंशन (संशोधन) विधेयक में प्रत्येक सदस्य को प्रतिमाह दिये जाने वाला वायुयान निर्वाचन क्षेत्र भत्ता 16 हजार रुपये के स्थान पर 25 हजार रुपये किये जाने का प्रावधान किया गया है. विधेयक में सदस्य को लेखन सामग्री तथा डाक भत्ते के रूप में दी जाने वाली राशि 4 हजार रुपये को बढ़ाकर 10 हजार रुपये किया गया है. अभी सदस्य को प्रतिमाह 5 हजार रुपये अर्दली भत्ता दिया जाता है. विधेयक में इसे बढ़ाकर 10 हजार रुपये किये जाने का प्रावधान रखा गया है. प्रत्येक सदस्य तथा पेंशन के हकदार सदस्य को 500 रुपये प्रतिमाह की दर से मिलने वाले बस यात्रा भत्ता को भी बढ़ाकर एक हजार रुपये किया गया है.

Related Posts: