बहराइच, 23 नवंबर. कांग्रेस महासचिव राहुल गाधी ने बुधवार को उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री व बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती और समाजवादी पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव पर तीखे प्रहार करते हुए कहा कि इन नेताओं का अब जनता से जुड़ाव नहीं रहा और यही वजह है कि उन्हें इस सूबे की हालत पर गुस्सा नहीं आता।

राहुल ने आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अपने अभियान के तहत बहराइच में एक जनसभा में कहा कि मायावती को मालूम ही नहीं है कि उत्तर प्रदेश में क्या हो रहा है। वह गाव नहीं जातीं, बाहर नहीं निकलती। यही हाल मुलायम सिंह जी का भी है। जब तक आपके नेता आपके घर नहीं जाएंगे, आपका खाना नहीं खाएंगे, आपका पानी नहीं पिएंगे तब तक उनको गरीबी का दर्द समझ नहीं आएगा। राहुल ने कहा कि मायावती गांवों में जाती थीं। आपका दर्द समझती थीं। गुस्सा होती थीं। मगर अब वह बड़ी नेता हो गई हैं और हेलीकाप्टर से घूमती हैं। कांग्रेस महासचिव ने कहा कि मैंने मुलायम सिंह को भी देखा है कि वह भी कभी आपके बीच जाते थे मगर अब वह समय नहीं रहा। उनमें अब वह गुस्सा नहीं रहा। उन्होंने सत्ता के लिए कल्याण सिंह को गले लगा लिया। उन्होंने कहा कि हम उत्तर प्रदेश को बदलना चाहते हैं। मुझे गुस्सा आता है कि बाकी हिंदुस्तान आगे बढ़ रहा मगर यूपी पीछे हो रहा है। राहुल ने एक सुविधाहीन अस्पताल में हो रहे रंगाई-पोताई कार्य का उदाहरण देते हुए कहा कि उस अस्पताल को इसलिए चमकाया जा रहा था क्योंकि मुख्यमंत्री मायावती का दौरा होना था और उन्हें उस अस्पताल में निरीक्षण के लिए जाना था। इसी से जाहिर होता है कि मायावती जनता से किस कदर कट चुकी हैं।

कांग्रेस किसानों की पार्टी

सपा के किसान प्रेम पर तल्ख टिप्पणी करते हुए राहुल ने कहा कि भट्टा पारसौल और टप्पल में किसानों पर ज्यादती हुई। इन दोनों जगह कौन गया, कांग्रेस पार्टी गई। उस वक्त समाजवादी पार्टी कहा थी। उन्होंने कहा कि किसान अपना पसीना और खून देता है और उसकी जमीन एक झटके में छीन ली जाती है। हरियाणा में जहा हमारी सरकार है, उनका अधिग्रहण कानून देख लीजिए। उत्तर प्रदेश के किसान हमसे कहते हैं कि हरियाणा में जमीन अधिग्रहण के एवज में किसान को जो धन मिलता है वह यहा भी दिलवाइए। ऐसा इसलिए नहीं होता क्योंकि उत्तर प्रदेश की सरकार बिल्डरों से पैसा लेती है और आपको नहीं देती। राहुल ने कहा कि मैं महाराष्ट्र जाता हूं तो उत्तर प्रदेश के लोग मेरे पास आकर हाथ पकड़कर पूछते हैं कि मेरा क्या होगा। वे कहते हैं कि उत्तर प्रदेश में हमारा कोई भविष्य नहीं। वहा हमें रोजगार नहीं मिल सकता। अगर रोजगार लाना है तो सड़क बिजली पानी की जरूरत है। यदि हम यहा उद्योग लाना चाहते हैं तो माहौल बनाना होगा। उन्होंने कहा कि हम उत्तर प्रदेश को पटरी पर लाना चाहते हैं। हम इसको बदलना चाहते हैं। इसे उत्तर प्रदेश के युवा और कार्यकर्ता बदलेंगे। कार्यकर्ता हमारी रीढ़ की हड्डी हैं। हमारी कोशिश कार्यकर्ताओं का हाथ पकड़कर उत्तर प्रदेश की तकदीर बदलने की है।
कांग्रेस आम आदमी की पार्टी

राहुल ने कहा कि केंद्र में हमारी सरकार है। वर्ष 2004 के लोकसभा चुनाव में हमने कहा था कि हम आम आदमी, गरीबों, दलितों, आदिवासियों और गरीबों की सरकार बनाएंगे। हमारे सभी प्रोग्राम चाहे वह मनरेगा हो या फिर सर्वशिक्षा अभियान अथवा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, इन सभी का लक्ष्य आम आदमी, गरीब आदमी को फायदा पहुंचाने का है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार विकास के लिए जितना भी धन मागती है, केंद्र सरकार उसे देती है लेकिन वह धन मंत्रियों की जेब में चला जाता है। राहुल ने जननी सुरक्षा योजना में धाधली का जिक्र करते हुए कहा कि इस योजना के तहत प्रसूता को 1600 रुपये दिए जाते हैं। राज्य में जननी सुरक्षा योजना के बारे में पता किए जाने पर मालूम हुआ कि ऐसी अनेक महिलाएं हैं जिन्हें हर हफ्ते यह धन मिलता है। उन्हें 10-15 बार यह पैसा मिला। यह धन मंत्रियों के जेब में गया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन में हुए हजारों करोड़ रुपये के घोटाले में शामिल पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा कहते हैं कि उनकी जान खतरे में है। मैं पूछता हूं कि उन्हें किससे खतरा है। इस योजना का धन भी मायावती के मंत्रियों और अधिकारियों ने लिया है। राहुल ने अतीत की यादें ताजा करते हुए कहा कि बहराइच से मेरे परिवार का पुराना संबंध है। राजीव गाधी जी ने यहा एक ऐतिहासिक फैसला लिया था। उन्होंने यहीं 18 साल के युवाओं को वोट का अधिकार दिया था।

Related Posts: