कोर्ट ने दिये 14 अक्टूबर तक पेश करने के निर्देश

भोपाल, 20 सितंबर.  मजिस्ट्रेट रामकुमार सोनकर द्वारा पूर्व में 30 जून को पीडब्ल्यूडी मंत्री नागेन्द्र सिंह सहित 10 अफसरों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था.
                          उक्त वारंट की अदम तामीली होने की रिपोर्ट न्यायालय को मिली तो न्यायालय ने मामले को गंभीरता से लेते हुये सतना पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिया कि उक्त गिरफ्तारी वारंट की तामीली सख्ती से कराकर 14 अक्टूबर तक दोषियों को न्यायालय में पेश करें.
सीजेएम सोनकर की अदालत ने इसके पहले 30 जून को पीडब्ल्यूडी मंत्री नागेन्द्र सिंह समेत कुछ वर्तमान व पूर्व आईएएस अधिकारियों योगेश्वरी देवी, पी.सी. सेन, सूरज प्रकाश, पी.एन. श्रीवास्तव, नरेश नारद सहित कुल 10 लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था.

उल्लेखनीय है कि कम्पनी रजिस्ट्रार ग्वालियर ने 3 परिवाद लगाये थे. जिसमें बताया कि फैक्ट्री एक्ट के तहत एमपी स्टेट टूरिज्म डेब्लपमेंट कॉर्पोरेशन प्रायवेट लिमिटेड कम्पनी 1977 में रजिस्टर्ड हुई थी. इस कम्पनी के निदेशक मंडल पीडब्ल्यूडी मंत्री नागेन्द्र सिंह , आईएएस योगेश्वरी देवी, पी.सी. सेन, सूरज प्रकाश, पी.एन. श्रीवास्तव, नरेश नारद सहित कुल 10 लोग थे. इनके द्वारा 1995 में रजिस्टर्ड कम्पनी की बैठक आयोजित की गई, जिसकी वार्षिक प्रतिवेदन की रिपोर्ट कंपनी रजिस्ट्रार ग्वालियर को भेजना था. किन्तु उक्त रिपोर्ट नहीं भेजी गई.

रिपोर्ट नहीं भेजने की बात को लेकर कंपनी एक्ट के तहत रजिस्ट्रार द्वारा न्यायालय में परिवाद प्रस्तुत किया गया था. जिस पर न्यायालय द्वारा उक्त सभी लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया. साथ वारंट तामीली की प्रक्रिया भी करवाई थी. इसके बावजूद भी सभी वारंटी लोग न्यायालय नहीं पहुंचे तो कोर्ट ने सख्ती से पुन: गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिये हैं.

Related Posts: