पटना, 2 अक्टूबर. भाजपा के राष्ट्रीय नेता लालकृष्ण आडवाणी की 11 अक्टूबर को लोकनायक जयप्रकाश नारायण की जन्मस्थली सिताबदियारा से शुरू हो रही रथयात्रा के रूट में फेरबदल हुआ है. साथ ही बिहार भाजपा ने स्पष्ट कर दिया है कि यात्रा मार्ग में कहीं पर भी गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर वाला पोस्टर या बैनर नहीं लगाया जाएगा.

पिछले कुछ दिनों से जो हालात बने हैं उससे स्पष्ट हो गया है कि  बिहार में भाजपा के साथ सत्ता पर काबिज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मोदी को पसंद नहीं करते हैं। इस नापसंदगी का वह कई बार इजहार भी कर चुके हैं। बदले कार्यक्रम के अनुसार आडवाणी का गया होते हुए झारखंड जाने का कार्यक्रम रद कर दिया गया है। वे बिहार में सिताबदियारा, छपरा, पटना, आरा व बक्सर में जनसभाओं को संबोधित करेंगे. 12 अक्टूबर को उनका रथ उत्तर प्रदेश के लिए रवाना होगा।

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सीपी ठाकुर ने शनिवार को रथयात्रा के संशोधित कार्यक्रम की जानकारी देते हुए पत्रकारों को बताया कि आडवाणी 11 अक्टूबर की सुबह विमान से पटना पहुंचेंगे। हेलीकॉप्टर से सिताबदियारा जाएंगे, जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उनकी रथयात्रा को हरी झंडी दिखा कर रवाना करेंगे। सिताबदियारा तथा छपरा में आडवाणी की जनसभा होगी। वहां से रथ पटना के लिए रवाना होगा जहां शाम पांच बजे गांधी मैदान में आडवाणी जनसभा को संबोधित करेंगे।

सभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव के भाग लेने की संभावना है। इस सभा में लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज और राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली भी भाग लेंगे। इसके बाद आडवाणी 12 अक्टूबर को सुबह 10 बजे आरा के लिए रवाना होंगे। आरा व बक्सर में जनसभाओं को संबोधित करने के बाद वह मोहनिया होते हुए बनारस जाएंगे.

Related Posts:

सीएम शिवराज सिंह से सुबह मिले राज्यपाल
महागठबंधन का बड़ा फैसला : नीतीश होंगे सीएम प्रत्याशी, लालू यादव भी हुए राजी
मोदी ने की रेलवे, सडक परियोजनाओं की समीक्षा
कौशल विकास सामाजिक,आर्थिक विकास के लिए जरूरी : प्रणव
कश्मीर हिंसा में एक और युवक की मौत ,मृतक संख्या 83 हुई
पूरे देश में मनाया जा रहा है महाशिवरात्रि का पर्व