भूरिया का राज्य सरकार पर निशाना

भोपाल,10 नवम्बर . प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया ने आज फिर राज्य सरकार पर निशाना साधा और कहा कि कांग्रेस को म.प्र. के लोकायुक्त पी.पी. नावलेकर पर इस कारण विश्वास नहीं है कि उनकी इस पद पर नियुक्ति स्वीकृत प्रक्रिया के अंतर्गत न्यायपूर्ण ढंग़ से नहीं हुई.

वस्तुस्थिति यह है कि लोकायुक्त पद पर उनकी नियुक्ति जल्दबाजी में की गई है. आज तक ऐसा कभी नहीं हुआ कि लोकायुक्त जैसे महत्वपूर्ण पद पर किसी व्यक्ति की नियुक्ति की सारी प्रक्रिया एक दिन में पूर्ण कर ली गई हो. उन्होंने आरोप लगाया है कि भाजपा सरकार ने लोकायुक्त पद पर पी.पी. नावलेकर की नियुक्ति तत्कालीन नेता प्रतिपक्ष जमुनादेवी की फ र्जी सहमति के आधार पर की है. उनके द्वारा इस 25 जून 2009 को सहमति दी जाना बताया गया है, लेकिन उस दिन जमुनादेवी इंदौर के महाराजा यषवंतराव अस्पताल की सघन चिकित्सा इकाई में भर्ती थी.

भूरिया ने कहा है कि जमुनादेवी की लिखित सहमति के लिए दिनांक 25 जून 2009 को जो पत्र मुख्य मंत्री के हस्ताक्षर से जमुनादेवी को फैक्स से इंदौर भेजना बताया गया है उस पत्र पर शासकीय प्रक्रियानुसार न तो जावक नंबर दर्ज है और न ही तारीख. यहां तक कि मुख्यमंत्री के हस्ताक्षर के नीचे भी तारीख अंकित नहीं है. जब एक साधारण सरकारी पत्र भी बिना जावक नं. और तारीख के नहीं भेजा जाता है तो फिर प्रश्न उठता है कि मुख्यमंत्री का इतना उच्च महत्व का पत्र नेता प्रतिपक्ष को जावक नंबर और तारीख दर्ज किये बिना अनधिकृत रूप से आखिर क्यों भेजा गया ? इस कार्यवाही के पीछे का सच यह है कि यह पत्र दरअसल जमुनादेवी तक पहुंचा ही नहीं. उस पर जमुनादेवी के हस्ताक्षर भी फर्जी हैं. राज्य सरकार चाहे तो जमुनादेवी के हस्ताक्षर की जांच करवा लें. सारी वस्तु स्थिति सामने आ जाएगी.  प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने म.प्र. सरकार के प्रवक्ता स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा द्वारा कल दिये गए बयान पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि आदिवासियों के साथ कांग्रेस का आत्मीय रिश्ता तब से है जब भाजपा तो दूर, उसकी मातृ संस्था जनसंघ का भी जन्म नहीं हुआ था.

आरोप प्रत्यारोप की राजनीति में भरोसा नही-शिवराज

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कहा कि उनका आरोप प्रत्यारोप की राजनीति में भरोसा नही है. इस लिए वह व्यर्थ की इन बातों में अपनी ऊर्जा नष्ट नही करना चाहते है.राजनीति को वह जनता की सेवा का माध्यम मानते हैं और वह इसके जरिए जनता की सेवा करते रहेंगे. मुख्यमंत्री पत्रकारों से आज भाजपा कार्यालय मेें अनौपचारिक चर्चा कर रहे थे. प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा लोकायुक्त की नियुक्ति के संबंध में कांग्रेस की वरिष्ठ नेता स्वर्गीय जमुना देवी के संबंध में की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह अदिवासियों का अपमान है. उन्होंने कहा कि सिंह ने स्वर्गीय जमुना देवी जैसे वरिष्ठ नेता पर यह टिप्पणी कर उनका भी अपमान किया है.

उन्होंने कहा कि जमुना देवी के निधन के सवा साल पहले ही लोकायुक्त की नियुक्ति की गई थीलेकिन दिग्विजय को अब इस संबंध में टिप्पणी करना उचित प्रतीत नही होता है. सिंह को लोकायुक्त जैसी संवेधानिक संस्थाओं की मर्यादा का सम्मान करना चाहिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी परंपरा है कि स्वर्गीय व्यक्ति के बारे में टिप्पणी नही की जाती है. जीवित व्यक्ति के बारे में बोला जाना ठीक जाना जाता है.

सीधी में रुके सीएम

आज मलेरिया प्रभावित सीधी जिले का दौरा करने पहुंचे सीएम ने अपना पूर्व निर्धारित कार्यक्रम बदलते हुए सीधी में ही रात बिताने का निश्चय किया.शिवराज ने अधिकारियों को जिले में प्रभावी सूचना तंत्र विकसित करने,24 घण्टे काम करने वाला कंट्रोल रुम बनाने,सूचना मिलते ही डाक्टर भेजने,मलेरिया नियंत्रण के लिए निजी डाक्टरों व एनजीओ की मदद लेने,जरुरत पडऩे पर निजी अस्पतालों का अधिगृहण करने के निर्देश दिए हैं.सीएम ने हिदायत दी है कि वे डाक्टर जिनकी कि रीवा व आसपास के स्थानों से सीधी में डयूटी लगाई गई है,अगर उन्होंने ज्वाइन नहीं किया है तो उनके विरुद्व कार्रवाई की जाए.

Related Posts: