नई दिल्ली, 21 नवंबर. संसद के मंगलवार से शुरू हो रहे शीतकालीन सत्र के लिए रणनीति तय करने के लिए राजग के घटक दलों की बैठक हुई.

इस बैठक में सत्र में सरकार को घेरने की रणनीति तैयार की गई. साथ ही राजग ने तय किया है कि वह महंगाई व कालेधन पर सरकार के खिलाफ स्थगन प्रस्ताव लाएगी. इतना ही गठबंधन ने तय किया है कि वह गृहमंत्री का संसद में बहिष्कार करेगी. इस्तीफे तक चिदंबरम को बोलने नहीं देंगे. कालेधन के लिए नोटिस भाजपा देगी जबकि महंगाई को लेकर नोटिस वामदल देंगे. राजग के कार्यकारी अध्यक्ष व भाजपा के शीर्ष नेता लालकृष्ण आडवाणी के घर संपन्न बैठक में देश के वर्तमान राजनीति हालात पर चर्चा की गई.

सूत्रों के मुताबिक इसमें राजग सांसदों द्वारा विदेशों में कोई गोपनीय बैंक खाता या संपत्ति न होने सम्बंधी घोषणा-पत्र संसद में पेश किए जाने को भी अंतिम रूप दिया गया. इसके अलावा कालेधन के साथ-साथ भ्रष्टाचार, घोटालों, मूल्य वृद्धि, महंगाई पर सरकार को घेरने की रणनीति तैयार की गई. सूत्रों ने बताया कि इस बैठक में निर्णय लिया गया कि राजग द्वारा महंगाई पर सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव नहीं लाया जाएगा. बैठक के बाद राज्यसभा में भाजपा के उपनेता एस एस अहलुवालिया ने बताया कि कालेधन पर संप्रग सरकार के खिलाफ श्री आडवाणी अविश्वास प्रस्ताव लाएंगे. जबकि वामदलों द्वारा महंगाई पर लाए जाने वाले स्थगन प्रस्ताव का राजग समर्थन करेगी. उन्होंने गृहमंत्री के इस्तीफे की मांग करते हुए कहा कि 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले के समय वित्त मंत्री व तत्कालीन गृहमंत्री पी चिदंबरम के इस्तीफे तक राजग संसद में उनका बहिष्कार करेगी.

Related Posts: