भारतीय वायु सेना प्रमुख की पाक को चेतावनी

Ak brounनई दिल्ली, 12 जनवरी. नियंत्रण रेखा के पास पाकिस्तान द्वारा संघर्ष विराम (सीजफायर) के उल्लंघन पर भारतीय वायुसेना के प्रमुख एन ए के ब्राउन ने शनिवार को कहा कि संघर्ष विराम (सीजफायर) का उल्लंघन जारी रहा तो दूसरे विकल्पों पर विचार किया जाएगा। उन्होंने कहा, सेना मामले पर नजर बनाए हुए है। सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर इस साल जनवरी में अब तक सात बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया है।

गौरतलब है कि नियंत्रण रेखा के पास पाकिस्तान ने गुरुवार देर रात जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में भारतीय चौकियों पर हमला किया और ताबड़तोड़ फायरिंग की। इस घटना के बाद एलओसी तनाव काफी बढ़ गया है। इसी जगह पर पाकिस्तान की सेना ने बीते मंगलवार को दो भारतीय सैनिकों की जघन्य हत्या कर दी थी। वहीं, भारत ने सीजफायर के निरंतर उल्लंघन पर सख्त रुख अपनाते हुए पाक के साथ फ्लैग मीटिंग किए जाने पर विमर्श कर रही है। वहीं, केंद्र सरकार ने इस घटना की संयुक्त राष्ट्र से जांच करवाने की पाकिस्तान की मांग को नकार दिया है।

पाकिस्तानी सेना ने पुंछ सेक्टर के बट्टल इलाके में गुरुवार शाम 4.30 बजे गोलीबारी शुरू की थी, जिसका भारतीय सेना ने करारा जवाब दिया। गोलीबारी शाम 6.10 बजे जाकर रूकी थी। गोलीबारी 13 राजपूताना राइफल्स के इलाके में हुई जिसके दो सैनिक लांस नायक सुधाकर सिंह और हेमराज की हत्या कर दी गई थी और पाकिस्तानी सेना ने उनके शव को क्षत-विक्षत कर दिया था।

इलाके में तैनात इकाई को बारासिंघा बटालियन के नाम से जाना जाता है। इस्लामाबाद में पाकिस्तान की सेना ने एक बयान में दावा किया कि पहले भारतीय सेना ने गोलीबारी शुरू की जिसमें उसका एक सैनिक मारा गया। सेना ने यहां गोलीबारी के आरोप से इनकार किया। भारत ने पाकिस्तान के इस आरोप से भी इंकार किया है कि उरी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास रविवार को उसकी सेना ने सीमा का उल्लंघन किया था। सेना की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया कि पाकिस्तान ने पांच-छह जनवरी की रात को संघर्ष विराम का उल्लंघन किया था और छह जनवरी को भारतीय सेना की ओर से नियंत्रित जवाब दिया गया था।

‘हत्या मामले में सख्ती बरते सरकार’

नागपुर. पूर्व थलसेनाध्यक्ष वीके सिंह ने सीमा पर पाकिस्तान के सैनिकों की ओर से दो भारतीय सैनिकों की हत्या की निंदा की और कहा कि सरकार को इस मुद्दे पर अपना रुख कड़ा करना चाहिए।

मध्य प्रदेश के मुलताई जाने के रास्ते में दिल्ली से यहां आए सिंह ने शनिवार को कहा, ‘सरकार को पाकिस्तानी सैनिकों की ओर से दिखाई गई शत्रुता पर रुख कड़ा करना चाहिए। यह हत्या मानवता के खिलाफ और जिनेवा करार (जिसके तहत पकड़े गए सैनिकों से पेश आने के मानक तय किए गए हैं) का उल्लंघन है।’ उन्होंने कहा कि जवानों की हत्या के खिलाफ देशभर की जनता में जारी आक्रोश और विरोध प्रदर्शन जायज हैं।

सरकार से नाराज शहीद हेमराज के परिजन अनशन पर बैठे

मथुरा . मथुरा के शेरपुर में शहीद हेमराज के घरवाले सरकार पर उपेक्षा का आरोप लगा रहे हैं. केंद्र और राज्य सरकारों की अनदेखी से नाराज और निराश होकर शहीद हेमराज का परिवार ने भूख हड़ताल कर दी है.

हेमराज के गांववाले भी अनशन पर बैठे हैं. घरवालों का इल्जाम है कि सरकार और प्रशासन की ओर से ना तो शहीद के अंतिम संस्कार का कोई इंतजाम किया गया और ना ही उन्हें सांत्वना देने सरकार के मुख्यमंत्री आए. शहीद हेमराज के घर की सिसकियों ने कई दर्द समेट रखे हैं. जवान बेटा देश के लिए शहीद हो गया कोई बात नहीं- दुख ये कि आखिरी बार उसका चेहरा भी नहीं देख पाए. घरवालों ने कलेजे पर पत्थर रख लिया. लेकिन दिल जार जार रोने लगा जब प्रदेश की सरकार और प्रशासन ने उपेक्षा की.

शहीद हेमराज का शव जब गांव पहुंचा तो गांववालों ने ट्रैक्टर के लाइट जलाए, और फिर अंतिम सस्कार के लिए खुद ही गैस और जनरेटर का इंतजाम किया. जबकि पुलिस प्रशासन को पहले ही इत्तला दी जा चुकी थी.

मथुरा प्रशासन ने शहीद के अंतिम संस्कार की अनदेखी की और उसी दिन मंत्री जी के कार्यक्रम में पुख्ता इंतजाम दिखा. कार्यक्रम के दौरान मंत्री दुर्गा प्रसाद यादव को जब शहीद के अंतिम संस्कार की जानकारी दी गई तो पहुंच गए शेरपुर गांव- खानापूर्ति की और लौट आए.

सरहद पर हेमराज के साथ मध्य प्रदेश के सुधाकर सिंह भी शहीद हुए. जब उनका शव घर पहुंचा तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद शहीद के घर पहुंचे और घरवालों को दिलासा दी. लेकिन शहीद हेमराज के घरवालों की आंखें आजतक अपने सूबे के सीएम का इंतजार कर रही हैं.

यूपी की अखिलेश सरकार ने भी खानापूर्ति कर दी है. शहीद हेमराज के परिजनों को 20 लाख देने का ऐलान किया है. लेकिन सवाल ये कि सरकार शहीद के गांव रुख करेगी कब. अब जरा उत्तर प्रदेश की समाजवादी सरकार का जवाब सुन लीजिए

20 लाख का चेक लेकर आएंगे सरकार. लेकिन क्या उस चेक से अपमान और उपेक्षा का दंश खत्म हो जाएगा. क्या वो चेक मां के आंसुओं का हिसाब दे पाएगा. क्या वो चेक पत्नी की मांग को पूरा कर पाएगा.

शाहरुख बोले, पाक को दें  मुंहतोड़ जवाब

मुंबई. बॉलिवुड ऐक्टर शाहरुख खान भी पाकिस्तान द्वारा की गई भारतीय सैनिकों की क्रूर और बर्बर हत्या को लेकर गम और गुस्से में हैं। उन्होंने कहा है कि भारत सरकार को पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा कदम उठाना चाहिए। उन्होंने कहा कि राजनीति, खेल, युद्ध, देश और सरहद सब अलग-अलग मसले हैं और इन्हें एक-दूसरे से मिलाना नहीं चाहिए।

शाहरुख ने कहा कि वह टीवी के जरिए इस मामले हो रहे घटनाक्रम से वाकिफ हैं। उन्होंने कहा कि भारत सरकार को इस मसले पर सख्त स्टैंड लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह संदेश देना जरूरी है कि जो कोई भी गलती करेगा उसकी जिम्मेदारी तय की जाएगी और उस व्यक्ति को उचित सजा दिलाई जाएगी। उन्होंने कहा कि एक भारतीय के रूप में मैं बेहद दुखी हूं।

हफिज ने उगली आग

कश्मीर में हिंसा का सामना करने को तैयार रहे भारत

इस्लामाबाद.  नियंत्रण रेखा पर दो भारतीय जवानों की हत्या के बाद से जहां भारत एवं पाकिस्तान के बीच तनाव बना हुआ है, वहीं लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक हाफिज सईद ने शुक्रवार को चेतावनी देते हुए नई दिल्ली से कहा कि वह जम्मू एवं कश्मीर में हिंसा का और सामना करने के लिए तैयार रहे।

मुम्बई पर 26 नवंबर 2008 को हुए आतंकवादी हमले का मुख्य साजिशकर्ता सईद ने समाचार एजेंसी ‘रायटर्स’ को दिए साक्षात्कार में कहा, ‘हम नहीं चाहते कि हिंसा के लिए किसी तरह के बल अथवा सैन्य अभियान चलाया जाए। लेकिन भारत अन्य विकल्पों पर विचार कर रहा है।’ सईद ने भारत पर पाकिस्तान को अस्थिर करने का भी आरोप लगाया।

क्रूरता है सैनिकों के सिर काटना : कलाम

कोयम्बटूर.  पाक की सेना द्वारा दो भारतीय सैनिकों के सिर काटने को कू्ररता बताते हुए पूर्व राष्ट्रपति ए पी जे अब्दुल कलाम ने कहा कि सरकार इस मुद्दे पर ”निश्चित रूप से” कड़ा कदम उठाएगी।  दिल्ली सामूहिक बलात्कार मामले में आरोपियों को दंड देने के बारे में उन्होंने कहा कि अदालत तय करेगी कि क्या सही है।

Related Posts: