नई दिल्ली, 02 नवंबर, उत्तरप्रदेश में चुनाव को देखते हुए राजनीतिक दलों के साथ गैर राजनीतिक दलों ने भी अपनी तैयारी शुरू कर दी है. युवाओं को जन लोकपाल के बारे में जागरूक करने के मकसद से गैर सरकारी संगठन इंडिया अगेंस्ट करप्शन उत्तर प्रदेश के विभिन्न कॉलेजों में अपने स्वयंसेवक बनाने का अभियान चलाएगा.

इंडिया अगेंस्ट करप्शन द्वारा स्वयंसेवक बनाने के इस सुगबुगाहट के बाद राजनीतिक दलों के हाथ पैर फूलने लंगे हैं. सभी राजनीतिक दल इस बात पर सोचने के लिए बाध्य हो गए हैं कि यदि अन्ना ने स्वयंसेवक बनाने की प्रक्रिया को अंजाम दे दिया तो आने वाले दिनों में चुनाव में खामियाजा भुगतना पड़ सकता है. हालांकि अन्ना के दौरे का ऐलान होते ही स्वयंसेवक बनाने की प्रक्रिया को तेज कर दी गई है. अन्ना ने दिल्ली में युवाओं के समर्थन से एक बड़ा आंदोलन खड़ा कर दिया था अब उत्तरप्रदेश में नए ढंग से कॉलेज छात्रों को जोड़कर भ्रष्टाचार के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लडऩे की बात कही जा रही है. इंडिया अगेंस्ट करप्शन के एक अधिकारी ने बताया कि प्रारंभिक तौर पर इसके लिए स्वयंसेवक बनाने की अपनी मुहिम की शुरुआत लखनऊ से किया जाएगा.

बाद में चरणबद्ध तरीके से उत्तर प्रदेश के वाराणसी, आगरा, मेरठ, इलाहाबाद, कानपुर और गोरखपुर जैसे मुख्य शहरों के कॉलेजों में यह अभियान चलाया जाएगा. प्रथम चरण में हमने लखनऊ के चार-पांच कॉलेजों का चयन किया है और आने वाले कुछ दिनों में हम यहीं से अपने अभियान की शुरुआत होगा. इन कॉलेजों में जाकर छात्रों से संवाद स्थापित कर उन्हें स्वयंसेवक बनाया जाएग ताकि भ्रष्टाचार के खिलाफ निर्णायक लड़ाई में छात्र अपनी अहम भूमिका अदा कर सके. गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश में 20-29 तक उम्र तक तीन करोड़ 17 लाख मतदाता है जबकि 40-49 तक 2 करोड़ 30 तक मतदाता है. प्रदेश के लगभग 55 फीसदी युवा मतदाताओं में सेंध लगाई जा सकती है.

Related Posts: