भाजपा और माकपा ने साधा मोर्चा

नई दिल्ली, 7 दिसंबर. फुटकर कारोबार में सीधे विदेश निवेश के मुद्दे पर सरकार को कदम खींचने पर मजबूर करने की जोरदार खुराक लेकर उतरे विपक्ष ने संसद में बुधवार को सत्तारूढ़ गठबंधन को महंगाई के मुद्दे पर घेर लिया.

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के सीताराम येचुरी ने सरकार के इस दावे का गलत बताया कि आम आदमी की खरीद क्षमता बढने की वजह से ही महंगाई बढ़ी है. उन्होंने कहा कि देश में शीर्ष दस प्रतिशत संपन्न वर्ग को ही आमदनी बढऩे का लाभ मिला है. महंगाई की मार से जनता रो रही है और यह सरकार आराम से सो रही है. 2004 और 2011 की तुलना करते हुए उन्होंने गिनाया कि दूध से लेकर दालों, पेट्रोल, गेहूं, चावल, चीनी और खाद तक के दाम आसमान छू रहे हैं. उन्होंने कहा क?ि पीएम साइलेंट हैं और कीमतें वाइलेंट हैं. नायडू ने कहा कि इस सरकार को दीवारों पर लिखी इबारत दिखाई नहीं दे रही है जहां साफ लिखा है कि इस देश की जनता सरकार को उखाड फेंकने की बाट जोह रही है. कांग्रेस की प्रभा ठाकुर ने महंगाई रोकने को सरकार और विपक्ष तथा केंद्र एवं राज्यों की सामूहिक जिम्मेदारी करार दिया.

सत्ता छोड़ किनारे हटे सरकार
राज्यसभा में इस मुद्दे पर हमले कमान संभालते हुए भाजपा के नेता एम वेंकैया नायडु ने सरकार को महंगाई रोकने में हर तरह से नाकाम साबित रहने का आरोप लगाया और कहा कि अगर सरकार से महंगाई नहीं रूक पा रही है तो उसे सत्ता छोड़ कर किनारे हट जाना चाहिए.

Related Posts: