• अपना घर में यौन शोषण

रोहतक, 8 जून. अपना घर [महिला सुधार गृह] में रहने वाली लड़कियों को निर्वस्त्र कर उनकी वीडियो फिल्म बनाई जाती थी. वीडियो फिल्म बनाने वाले विदेशी इसके लिए लड़कियों को अच्छा खाना और कपड़े देने का लालच देते थे.

यौन शोषण की शिकार लड़कियों के आरोप सुनकर पुलिस भी सकते में आ गई है. अपना घर की संचालिका जसवंती से पूछताछ के दौरान भी यह बात सामने आई थी. उल्लेखनीय है कि यौन शोषण के मामले में बाल संरक्षण आयोग ने 9 मई को अपना घर में छापा मारकर 90 लड़कियों को मुक्त कराया था. इन लड़कियों में से अधिकांश 10 से 15 साल की उम्र की लड़कियां था. इस मामले के तूल पकडऩे के बाद पुलिस एसटीएफ का गठन किया था. वहीं, हाईकोर्ट ने भी इसकी जांच के लिए चार सदस्यीय टीम का गठन किया था.

एक बालिका गर्भवती और दूसरी एचआइवी पॉजिटिव

अपना घर में नाबालिग बालिकाओं को कितनी यातनाएं झेलनी पड़ी हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इनमें से एक बालिका गर्भवती है और दूसरी एचआइवी पॉजिटिव. सूत्र बताते हैं कि भिवानी के हनुमते बाल आश्रम व तोशाम रोड स्थित बाल आश्रम में रह रही युवतियों में से एक के गर्भवती होने का पता चला है, जबकि दूसरी एचआइवी पॉजिटिव पाई गई है. स्थानीय प्रशासन ने इस संबंध में रोहतक पुलिस को सूचित कर दिया है. मामले की गंभीरता को देखते हुए जिला प्रशासन दोनों बाल आश्रमों पर विशेष निगरानी रख रहा है. हालांकि बालिकाओं के साथ तमाम यातनाएं अपना घर में हुई थीं.

इस मामले में अधिकारी फूंक-फूंक कर कदम रख रहे हैं और किसी भी प्रकार की कोताही नहीं होने दी जा रही. मालूम हो कि भिवानी के हनुमते बाल सेवा आश्रम में रोहतक के अपना घर से 11 बच्चों को स्थानांतरित किया हुआ है, जबकि तोशाम रोड स्थित बाल सेवा आश्रम में सात बच्चे स्थानांतरित किए हुए हैं. एक उच्चाधिकारी ने नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर उक्त बात की पुष्टि की है.

Related Posts: