चेन्नई, 9 जनवरी. भारतीय टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस ने सर्बिया के अपने जोड़ीदार जांको टिप्सारेविच के साथ मिलकर एयरसेल चेन्नई ओपन 2012 के पुरुष युगल का खिताब अपने नाम किया. तीसरी वरीय इस जोड़ी ने इजराइली जोड़ी एंडी राम और जानथन एर्लीच को मात दी.

पेस और टिप्सारेविच की जोड़ी ने 6-4, 6-4 से सीधे सेटों में जीत दर्ज कर खिताब पर कब्जा किया. भारतीय-सर्बियाई जोड़ी ने अपना पहला खिताब जीता है जबकि यह पेस का यहां छठा डबल्स खिताब है. खिताबी जंग 73 मिनट तक चली. टिप्सारेविच ने सिंगल्स का फाइनल मैच हारने के तुरंत बाद इस मैच को खेला. उनसे पूछने पर कि वह कैसे दोनों मैचों को खेल सके, टिप्सारेविच ने कहा कि सीजन से पहले मैंने बहुत मेहनत की थी. मैं हर साल ऐसा करता हूं और फिटनेस मेरा मजबूत पहलू है. पेस के बारे में उन्होंने कहा कि मुझे ऐसे इंसान के साथ खेल कर अच्छा लग रहा है जो मुझसे कुछ पूछता है तो मुझे कुछ देता भी है.

राओनिक ने चेन्नई खिताब जीता

चौथी वरीयता प्राप्त कनाडा के मिलोस राओनिक ने सनसनीखेज प्रदर्शन करते हुए शीर्ष वरीय सर्बिया के यांको टिप्सारेविच को तीन घंटे से अधिक समय तक चले मैराथन मुकाबले में यहां 6-7, 7-6, 7-6 से हराकर चेन्नई ओपन टेनिस टूर्नामेंट के पुरष एकल का खिताब जीत लिया. विश्व के नौवें नंबर के खिलाड़ी 27 वषीर्य टिप्सारेविच को खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा था, लेकिन विश्व रैंकिंग में 31वें नंबर पर काबिज राओनिक ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया. दोनों खिलाडिय़ों के बीच खिताबी मुकाबला तीन घंटे 13 मिनट तक खिंचा.

सर्बियाई खिलाड़ी ने पहला सेट टाईब्रेक में जीतकर बढ़त बनायी, लेकिन 20 वर्षीय राओनिक ने अगले दोनों सेट टाईब्रेक में जीतकर खिताब अपनी झोली में समेट लिया. पूरे मैच के दौरान राओनिक ने कुल 35 एस झोंके जो उनकी सबसे बड़ी ताकत है. उन्होंने सेमीफाइनल में भी कुल 17 एस झोंके थे. कनाडाई खिलाड़ी की 73 प्रतिशत पहली सर्विस सटीक रही और उन्होंने केवल एक डबल फाल्ट किया. दूसरी ओर टिप्सारेविच ने पूरे मैच के दौरान कुल आठ एस लगाए और उनकी 60 प्रतिशत पहली सर्विस सटीक रही. साथ ही उन्होंने दो डबल फाल्ट भी किए. टिप्सारेविच ने सेमीफाइनल में जापान के क्वालीफायर गो सोइदा को शिकस्त दी थी जबकि राओनिक ने दूसरी वरीयता प्राप्त स्पेन के निकोलस अलमाग्रो को हराया था.

Related Posts: