मुंबई हमलावरों की मदद 40 भारतीयों ने की : पाक

इस्लामाबाद, 2 जुलाई. मुंबई में हमला करने वाले आतंकवादियों को कराची से नियंत्रित किए जाने के संदिग्ध आतंकी जबीउद्दीन अंसारी के खुलासे के कुछ ही दिन बाद पाकिस्तानी अधिकारियों ने दावा किया कि इन हमलों में 40 भारतीय लिप्त थे। उधर, अबु हमजा पर पाकिस्तान ने नई पैंतरेबाजी चली है। उसका कहना है कि भारत ने पाकिस्तान के साथ अबु हमजा पर जानकारी साझा नहीं की।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के एक अनाम अधिकारी को द एक्सप्रेस ट्रिब्यून में यह कहते हुए उद्धृत किया गया है हमारी सूचना के अनुसार, हमलावरों की मदद कम से कम 40 भारतीयों ने की। हम चाहते हैं कि भारत इस पर स्थिति स्पष्ट करे। खबर में कहा गया है कि दिल्ली में इस सप्ताह दोनों देशों के विदेश सचिवों के बीच होने जा रही बैठक में पाकिस्तान भारत से अंसारी उर्फ अबू जिंदाल की हालिया गिरफ्तारी का ब्यौरा देने के लिए कहेगा। इस खबर में आगे कहा गया है कि चार जुलाई से दोनों देशों के विदेश सचिवों के बीच शुरू होने जा रही बैठक में अंसारी की गिरफ्तारी और फिर भारतीय अधिकारियों द्वारा किए गए दावों पर चर्चा होने की संभावना है। विदेश मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान भारत से अंसारी की गिरफ्तारी का ब्यौरा देने को कहेगा। उन्होंने कहा कि भारत ने इस बारे में अब तक हमें कुछ नहीं बताया है।

अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान कहता रहा है कि मुंबई हमला भारतीय नागरिकों की मदद के बिना संभव नहीं हो सकता था। इस अधिकारी के मुताबिक भारतीय अधिकारी हमें मुंबई हमलों की जांच की असली तस्वीर बताने को लेकर अनिच्छुक रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब पाकिस्तानी न्यायिक आयोग सबूत जुटाने के लिए भारत गया तो उसे गवाहों से जिरह करने से रोक दिया गया। अधिकारी ने कहा कि अगर जांच के ब्यौरे मुहैया कराए जाएं तो पाकिस्तान ‘निर्णायक कार्रवाई’ कर सकता है। उन्होंने कहा कि सुनी सुनाई बात पर हम कार्रवाई नहीं कर सकते। भारतीय अधिकारी कहते रहे हैं कि आयोग के दौरे से पहले दिल्ली और इस्लामाबाद के बीच हुए एक समझौते में यह साफ साफ कहा गया है कि पैनल को गवाहों से जिरह करने की अनुमति नहीं होगी। भारतीय नागरिक अंसारी को सउदी अरब से प्रत्यर्पित कर लाए जाने के बाद गिरफ्तार किया गया है। भारतीय अधिकारियों ने कहा कि अंसारी पाकिस्तानी पासपोर्ट पर यात्रा कर रहा था। गृह मंत्री पी. चिदंबरम के मुताबिक, पूछताछ में अंसारी ने माना है कि वह उस समय कराची में एक नियंत्रण कक्ष में मौजूद था जहां से मुंबई हमलों को अंजाम देने वाले आतंकवादियों को निर्देश दिए जा रहे थे। मुंबई हमलों के बाद पाकिस्तानी अधिकारियों ने लश्कर ए तैयबा के अभियान कमांडर जकीउर रहमान लखवी सहित सात संदिग्धों को गिरफ्तार किया था। लेकिन एक साल से अधिक समय से उनके खिलाफ सुनवाई नहीं हो पाई है।

Related Posts: