लंदन. इंग्लैंड के निराशाजनक दौरे के बीच भारतीय क्रिकेट टीम के आईसीसी के वार्षिक पुरस्कारों से नदारद रहने से विवाद खड़ा हो गया है. कई शीर्ष खिलाडिय़ों के नामित होने के बावजूद भारतीय खिलाडिय़ों ने इस पुरस्कार समारोह में शिरकत नहीं की.

भारतीय टीम ने दावा किया कि समारोह का निमंत्रण देर से आया लेकिन आईसीसी ने जोर देकर कहा कि बीसीसीआई और मेहमान टीम को काफी पहले ही सूचना दे दी गई थी. भारत को इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में 0-4 से शिकस्त झेलनी पड़ी जबकि वनडे सीरीज में भी वह 0-2 से पीछे चल रही है. टीम हालांकि कल रात समारोह की मेजबानी करने वाले स्थल के समीप ही ठहरी है. भारतीय टीम मैनेजर शिवलाल यादव ने असमर्थता जताते हुए कहा कि आईसीसी कम्यूनिकेशन मैनेजर ने उन्हें दोपहर 12 बजे सूचित किया और तब तक खिलाड़ी लंदन में अपना आखिरी दिन होने के कारण खरीददारी और घूमने के लिए जा चुके थे.

आईसीसी ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि इस संबंध में ई-मेल बीसीसीआई को 26 अगस्त को ही भेज दिया गया था. आईसीसी के संचार प्रभारी कोलिन गिब्सन ने कहा, भारतीय टीम प्रबंधन को रात को हुए समारोह के लिए आमंत्रित किया गया था और कुछ हफ्ते पहले उन्हें निमंत्रण भेजा गया था. उन्होंने कहा, जिन्हें पुरस्कारों के लिए नामित किया गया उन्हें 26 अगस्त से ही जानकारी थी जब कैंटरबरी में नामांकित खिलाडिय़ों की घोषणा की गई. आईसीसी के सूत्रों ने कहा कि बीसीसीआई को समारोह की जानकारी थी और वह भारतीय टीम के इसमें हिस्सा लेने को लेकर भी राजी था.

आईसीसी के प्रवक्ता ने कहा, अगर ऐसा नहीं होता तो भारतीय टीम आज ही कार्डिफ अंतिम वनडे का मेजबान रवाना हो चुकी होती और सोमवार को लंदन में नहीं रुकती.
उन्होंने कहा, उनके कार्यक्रम में सोमवार को लंदन में रुकना शामिल था जो यह पुष्टि करता है कि उन्हें इसकी जानकारी थी. मुझे नहीं पता कि टीम को इसमें हिस्सा लेने की सलाह दी गई या नहीं, उन्हें कुछ हफ्ते पहले अगस्त के अंत में निमंत्रण भेजा गया.
पूरी टीम को 26 अगस्त को आमंत्रित किया गया.

समारोह में हिस्सा लेने वाले बीसीसीआई के सीनियर अधिकारी राजीव शुक्ला ने कहा कि उन्हें नहीं पता था कि भारतीय टीम समारोह के लिए नहीं आ रही. शुक्ला ने कहा, मुझे लगा कि जिन्हें नामांकित किया गया है वे समारोह में हिस्सा लेंगे. उन्होंने कहा, यह खिलाडिय़ों का विशेषाधिकार है कि वह समारोह में हिस्सा लें या नहीं.

Related Posts: