भोपाल, 25 जुलाई. भारतीय जनता पार्टी उद्योग प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक आंनद छापरवाल ने राष्ट्रपति चुनाव के तत्काल पश्चात् पेट्रोल के दामों में की गयी वृद्धि को केन्द्र सरकार की अवसरवादिता बताते हुए इसे आम आदमी के साथ विश्वासघात बताया है.

उन्होंने कहा कि एक ओर विश्व मंडी में कच्चे तेल के मूल्यों में उतार चल रहा है दूसरी ओर केन्द्र सरकार पेट्रोल के मूल्य बढ़ाकर मंहगाई बढाने के लिये आग में घी डालने का काम कर रही है. पेट्रोल मूल्य वृद्घि के खिलाफ भाकपा का प्रदर्शन -भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने पेट्रोल की कीमत में बार बार हो रही वृद्घि को अमानवीय निरुपित कर केन्द्र सरकार की भत्र्सना की है.

भाकपा के प्रांतीय मीडिया प्रभारी शैलेन्द्र कुमार शैली ने कहा कि केन्द्र सरकार की जन विरोधी आर्थिक नीतियों के तहत तेल कंपनियों को नियंत्रण से मुक्त किया गया. जिसका दुष्परिणाम बार-बार कीमतों में भारी वृद्घि के रुप में आम जनता को भुगतना पड़ रहा है. मध्यप्रदेश की सरकार भी पेट्रोलियम पदार्थों पर सर्वाधिक टैक्स ले रही है. जिससे महंगाई की भारी मार से त्रस्त जनता की दिक्कतें बढ़ गई हैं. भाकपा ने तेल कंपनियों पर केन्द्र सरकार का नियंत्रण पुन: कायम करने तथा पेट्रोलियम पदार्थों की भारी मूल्यवृद्घि वापस लेने की मांग की है.

Related Posts: