कोलकाता, 15 जून. दोहा एशियाई खेलों में रिले स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाली एथलीट पिंकी प्रमाणिक, जिन्हें पुरुष होने और एक महिला के साथ बलात्कार के आरोप के बाद पहले हिरासत में लिया गया और फिर गिरफ्तार कर लिया गया, को पश्चिम बंगाल की एक अदालत में पेश किया गया. पुलिस ने अदालत से पिंकी का किसी सरकारी अस्पताल में लिंग पहचान परीक्षण कराने सम्बंधी अनुमति मांगी है.

बिधाननगर (24 परगना जिला) के पुलिस उपायुक्त ने बताया कि पिंकी को बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया था. उसे अदालत में पेश किया गया. पिंकी ने लिंग पहचान परीक्षण कराने से इंकार कर दिया था. पिंकी को इस शिकायत के बाद गिरफ्तार किया गया था कि वह पुरुष है और उसने कथित तौर पर एक महिला से बलात्कार किया है. पिंकी पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली महिला विधवा है और एक बच्चे की मां है. उसने अपनी शिकायत में बताया है कि पिंकी ने शादी का झांसा देकर उसके साथ लिव-इन रिश्ता कायम किया और बीते कुछ महीनों से उसके साथ बलात्कार करता रहा. महिला ने कहा है कि पिंकी ने इस दौरान उसके साथ मारपीट की है और उसका कई तरह से शोषण किया है.

महिला की शिकायत के बाद पिंकी को एक निजी नर्सिग होम में ले जाया गया और उसका मेडिकल चेकअप किया गया. नर्सिग होम की रिपोर्ट में कहा गया है कि पिंकी पुरुष है.
पिंकी ने 2006 के दोहा एशियाई खेलों में 4 गुणा 400 मीटर रिले स्पर्धा में स्वर्ण जीता था. इसके अलावा उन्होंने उसी साल मेलबर्न राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक भी जीता था. तीन साल पहले पिंकी ने एथलेटिक्स से संन्यास ले लिया था. वह रेलवे में टिकट निरीक्षक पद पर नौकरी करती है.

Related Posts: